" /> लांचिंग पैड पर पहुंचे कोरोना संक्रमित आतंकी, पाकिस्तान की कायरता का खुलासा

लांचिंग पैड पर पहुंचे कोरोना संक्रमित आतंकी, पाकिस्तान की कायरता का खुलासा

पाकिस्तान अब कोरोना वायरस को भारत के खिलाफ हथियार के तौर पर प्रयोग करने की साजिश रच रहा है। इसके लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई 20 दिन से पाकिस्तान के कब्जे वाले क्षेत्र में मौजूद कोरोना संक्रमित आतंकियों को प्रशिक्षण शिविरों से निकाल कर नियंत्रण रेखा से सटे लांचिंग पैड्स पर पहुंचाने में लगी है। ताकि इन कोरोना संक्रमित आतंकियों को भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करा कर किसी तरह कश्मीर घाटी तक पहुंचाया जा सके।

सूत्रों के अनुसार इस समय पुंछ में बालाकोट से सावजियां तक स्थित लांचिंग पैड्स पर बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित आतंकियों को पहुंचा भी दिया गया है। ऐसे आतंकियों को घुसपैठ कराने के लिए ही पाकिस्तानी सेना नियंत्रण रेखा पर सैन्य चौकियों और रिहायशी इलाकों में गोलाबारी को अंजाम दे रही है। सूत्रों के अनुसार कोरोना संक्रमित आतंकियों को अन्य आतंकियों से अलग रखने के लिए उन्हें लांचिंग पैड्स के निकटवर्ती धार्मिक स्थलों में रखा जा रहा है, क्योंकि पाकिस्तानी सेना ऐसे आतंकियों के साथ सीधे संपर्क में आने से इनकार कर चुकी है। सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान अधिकृत क्षेत्र में आतंकी शिविरों में मौजूद करीब 80 प्रतिशत आतंकी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें भी ज्यादातर कश्मीर से वहां पहुंचे हैं। इनमें से कई ऐसे आतंकी भी हैं, जिनका अभी प्रशिक्षण भी पूरा नहीं हुआ है परंतु पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ऐसे आतंकियों को भी प्रशिक्षण शिविरों से निकाल कर लांचिंग पैड्स तक पहुंचा रही है। इसके पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी और सेना की मंशा भारतीय क्षेत्र में कोरोना का संक्रमण बढ़ाकर ज्यादा से ज्याद नुकसान कराना है। अगर ऐसे कोरोना संक्रमित आतंकी घुसपैठ करने में सफल हो जाते हैं तो उन्हें पीर पंजाल को पार कर कश्मीर में प्रवेश करना होगा। ऐसे आतंकी घुसपैठ करते हुए मारे भी जाते हैं तो उनके शव एवं उनके हथियार आदि को उठाने वालों के कोरोना संक्रमित होने की पूरी आशंका बनी रहेगी। हालांकि पाकिस्तान की किसी भी प्रकार की नापाक हरकत को सेना की तरफ से नाकाम बनाया जा रहा है।

कीरनी क्षेत्र के लोगों ने सेना को किया अलर्ट कुछ दिन पहले ही नियंत्रण रेखा से सटे कीरनी क्षेत्र के कुछ लोगों ने पाकिस्तानी सेना की चौकियों के पास स्थित मस्जिद में दस पंद्रह लोगों की गतिविधियों के बारे में सेना को जानकारी दी थी। उस मस्जिद के पास से ही पाकिस्तानी सेना की तरफ से क्षेत्र में गोलाबारी की जा रही है और मस्जिद में कई लोग सुबह शाम अंदर बाहर निकलते दिखाई देते हैं।