" /> लाखों अंडे-चूजों को दफनाया पशुपालन विभाग ने भेजी नोटिस

लाखों अंडे-चूजों को दफनाया पशुपालन विभाग ने भेजी नोटिस

चीन में तबाही मचानेवाले कोरोना वायरस का असर पालघर में अंडे और चिकन की कीमतों पर दिख रहा है। जिले में पोल्ट्री व्यवसायी अचानक हुई कीमतें कम होने से परेशान हैं क्योंकि इससे उनके मुनाफे पर सीधी चोट पड़ी है। चिकन और अंडे की थोक कीमतों में ४० से ५० फीसदी की कमी आई है। सोशल मीडिया पर चिकन-अंडे को लेकर अफवाह पैâलाई जा रही है, जिसे देखते हुए एक पोल्ट्री व्यवसायी ने गत सप्ताह ९ लाख अंडे और २ लाख चूजों को जमीन में दफना दिया था। जिला पशुपालन विभाग ने व्यवसायी को नोटिस जारी किया है।
डहाणू के पोल्ट्री व्यवसायी संदीप भटेलेकर ने लगातार चिकन और अंडों के गिरती कीमतों से परेशान होकर गत सप्ताह करीब नौ लाख अंडों व २ लाख चूजों को मिट्टी में दबवा दिया था। मामले को संज्ञान में लेकर अब पालघर के पशुपालन विभाग ने संदीप भटेलेकर को नोटिस भेजा है। जिला प्रशासन ने बताया कि संदीप भटेलेकर ने अंडों और चूजों को बिना किसी सरकारी अनुमति के जमीन में दबा दिया था। तो क्यों न उन पर भारतीय पशु संरक्षण अधिनियम और पशु क्रूरता अधिनियम की धाराओं में मामला दर्जकर कारवाई की जाए।
डहाणू में पोल्ट्री का व्यवसाय कर रहे योगेश ने बताया कि मुर्गी और अंडे के माध्यम से वायरस के प्रसार के बारे में सोशल मीडिया के जरिए गलत सूचनाएं पैâलाने से पिछले दो महीनों में अंडे और चिकन की कीमतों में भारी गिरावट आई है। वहीं मुर्गियों के चारों की कीमत में ३५-४५ फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। इससे मुर्गी पालन कारोबार की लागत बढ़ी है। हालांकि कोरोना वायरस से मुर्गियों की सप्लाई घट रही है, जिससे हमें नुकसान उठाना पड़ रहा है।