लिपस्टिक से भरी मांग

सिंदूर हर नारी का सुहाग चिन्ह होता है। हिंदू रीति-रिवाज के मुताबिक जब पति अपनी पत्नी की मांग में सिंदूर भरता है तब वो उसकी पत्नी के साथ ही सुहागन बन जाती है। शादी के बाद जब बहू अपने बड़े-बुजुर्गों के पांव छूकर उनसे आशीर्वाद मांगती है तो वे उसे ‘सदा सुहागन’ तथा ‘तुम्हारा सुहाग बना रहे’, ऐसा आशीर्वाद देते हैं।
लेकिन कई बार ऐसा भी देखने और सुनने को मिलता है कि जब कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका से जीवन भर साथ निभाने का वादा करता है इसके बावजूद उसकी प्रेमिका उस पर तब तक विश्वास नहीं करती जब तक वह उससे शादी नहीं कर लेता। हिंदुस्थान में रहनेवाले विभिन्न समाज के लोग अपनी परंपरा और रीति अनुसार अपने बेटे-बेटियों का विवाह करते हैं। विवाह के समय वर-वधू पक्ष के लोग इकट्ठे होते हैं। विवाह की सारी रस्में निभाई जाती हैं और लड़का-लड़की परिणय सूत्र में बंधकर जिंदगी की एक नई शुरुआत करते हैं। परंतु कभी-कभार ऐसा भी होता है कि जब लड़का और लड़की अपने परिजनों के विरुद्ध जाकर शादी करते हैं। समझदार परिवार बाद में दोनों को अपना लेते हैं परंतु कुछ परिवार लोक-लाज के चलते उन्हें अपनाने से इंकार कर देते हैं। जवानी के नशे में चूर युवक-युवतियां अपने परिजनों से बगावत कर शादी तो कर लेते हैं लेकिन बाद में उन्हें पछतावा होता है कि उन्होंने जो कुछ भी किया गलत किया लेकिन समाज और फिल्मों में बहुत अंतर देखने को मिलता है।
ऐसा ही एक किस्सा ५० के दशक में बहुत चर्चित हुआ था। फिल्म ‘जीवन ज्योति’ से अपना करियर शुरू करनेवाले अभिनेता शम्मी कपूर की मुलाकात फिल्म ‘काफी हाउस’ के सेट पर अभिनेत्री गीता बाली से हुई। शूटिंग खत्म होने के बाद दोनों खूब गपशप करते। दोनों में खूब जमती। उसके बाद उन दोनों को एक फिल्म ‘रंगीन रातें’ मिली। एक कहावत है- ‘जथा नाम तथा गुण’। उस फिल्म की शूटिंग रानी खेत में शुरू हुई। फिल्म की शूटिंग के दौरान दोनों एक-दूसरे के कब करीब आ गए। शम्मी कपूर ने गीता से कहा, ‘मैं तुमसे शादी करना चाहता हूं इसी वक्त। चलो शाादी कर लें।’ गीता ने कहा कि ‘ऐसा कैसे हो सकता है? यहां कहां शादी करेंगे जंगल में।’ फिर शम्मी कपूर ने कहा कि पिछले हफ्ते जॉनी वाकर ने शादी की है। चलो उनसे पूछते हैं कि शादी कहां होती है? दोनों जॉनी वाकर के पास गए। उनसे बोले, ‘यार शादी करनी है, कुछ बताओ।’ जॉनी वाकर ने कहा, ‘मैं तो मियां भाई हूं। मैंने तो मस्जिद में जाकर निकाह किया। तुम मंदिर चले जाओ और भगवान को साक्षी मानकर विवाह कर लो।’ फिर दोनों पास ही स्थित एक मंदिर में गए। पुजारी से कहा, ‘हम दोनों शादी करना चाहते हैं।’ पुजारी ने दोनों को एक-एक माला दी और कहा कि ‘बारी-बारी से इसे तुम दोनों एक-दूसरे को पहना दो।’ माला पहनाने के बाद पुजारी ने कहा कि ‘अब तुम इनकी मांग में सिंदूर भरो।’ दोनों एक-दूसरे की ओर देखने लगे। उनके पास सिंदूर था ही नहीं। गीता बाली ने झट से अपना पर्स खोला और उसमें से लिपस्टिक निकाली और बोली, ‘इससे मेरी मांग भर दो।’ और शम्मी कपूर ने लिपस्टिक से गीता की मांग भर दी।