" /> लॉकडाउन नहीं सट्टेबाज लॉक!, नीट की परीक्षा पर लगा रहे थे सट्टा

लॉकडाउन नहीं सट्टेबाज लॉक!, नीट की परीक्षा पर लगा रहे थे सट्टा

यूपी के कानपुर जिले में पुलिस ने अब तक के सबसे बड़े सट्टेबाजी गिरोह के भंडाफोड़ करने का दावा किया है। काकादेव और कल्याणपुर में पुलिस ने एक साथ छापेमारी कर सात को गिरफ्तार किया है। इनके पास से ३८.७० लाख रुपए, पर्चियां, रजिस्टर मिले हैं। यह गिरोह सेंसेक्स के अलावा विदेशी शेयर बाजारों की क्लोजिंग वैल्यू पर सट्टा लगवाता था। गिरोह ने नीट एग्जाम होंगे कि नहीं इस पर भी बड़ा सट्टा लगवाया था। गिरोह का मास्टरमाइंड फरार है। पुलिस ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण लागू लॉकडाउन में भी सट्टेबाज लॉक नहीं है और खुल्लम खुल्ला सट्टा लगा रहे थे।

एसपी पश्चिमी डॉ. अनिल कुमार और एसपी साउथ दीपक भूकर ने अपनी टीम बनाकर विजयनगर सब्जी मंडी और केशवपुरम में एक साथ छापेमारी की। यहां से सात सटोरियों के पास से ३८.७० लाख रुपए, १० मोबाइल फोन, २६ ताश की गड्ढियां और दो दर्जन से अधिक रजिस्टर और पर्चियां बरामद हुर्इं। पुलिस ने विजय नगर सब्जी मंडी निवासी सागर सोनी, आर्य समाज पार्क विजय नगर के संजय, विजय नगर के अभिषेक, अनिल, केशव नगर के पिंटू, अंबेडकरनगर निवासी शैलू, शास्त्री नगर निवासी  रोहित को गिरफ्तार किया गया है। मुख्य आरोपी केशवपुरम निवासी संतोष सोनी फरार है। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि एनएसई के अलावा हांगकांग, डी जोंस, एनवाईएसई (न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज) पर सट्टा खिलवाते थे। मार्केट बंद होने पर आखिर जो फिगर आती थी, उसमें दशमलव के बाद के दो नंबरों पर सट्टा खिलवाते थे। नेशनल मार्केट के बंद होने के समय पर पर्चियां खुलती थीं। इस सट्टे में यह इन नंबर का एक डिजिट मैच होने पर दस पर ९० रुपए और दोनों फिगर मैच होने पर १० पर ७५० रुपए दिया जाता था। अंदर के नंबर मैच होने पर १० रुपए से लेकर १,५०० रुपए तक दिया जाता था।
आरोपियों ने पुलिस को बताया कि नीट की परीक्षा में वर्तमान में बड़ा सट्टा लगाया गया था। परीक्षा होने पर दस पर ५० रुपए और न होने पर दस के ६० रुपए का भाव लगा हुआ था। पूरे शहर से लोगों ने १० लाख रुपए से ज्यादा फंसा रखे थे। डीआईजी डॉ. प्रीतिन्दर सिंह ने कहा कि पिछले कई दिनों से काकादेव और कल्याणपुर में जुआ और सट्टा चलने की लगातार शिकायत मिल रही थी। इस पर टीमों को लगवाकर कार्रवाई कराई गई। पुलिस इस मामले में अन्य बिंदुओं पर जांच कर रही है।

काकादेव पुलिसकर्मियों की होगी गोपनीय जांच 
३८ लाख रुपए का सट्टा और उससे पहले काकादेव क्षेत्र में एक करोड़ रुपए का मादक पदार्थ पकड़े जाने से काकादेव थाने की पुलिस की भूमिका संदिग्ध पाई गई है। पूर्व एसओ की भूमिका भी संदिग्ध मानी जा रही है। पूर्व एसओ समेत थाने के अन्य कर्मियों की गोपनीय जांच कराई जाएगी।

सरगना के कल्याणपुर में आधा दर्जन मकान 
फरार सरगना संतोष सोनी का कल्याणपुर में आधा दर्जन मकान है। इन घरों को उसने जुए के अड्डे में तब्दील कर रखा था। पुलिस द्वारा बरामद किए गए ३८ लाख रुपए एक दिन की कमाई है। पुलिस संतोष की संपत्ति का भी आंकलन कर रही है। पकड़ा गया सागर सोनी सरगना का पार्टनर है।