" /> लॉकडाउन में कपड़े प्रेस करके गुजारा कर रही है कबड्डी की नेशनल स्‍कूल प्‍लेयर

लॉकडाउन में कपड़े प्रेस करके गुजारा कर रही है कबड्डी की नेशनल स्‍कूल प्‍लेयर

कहते हैं कि प्रतिभा अमीरी की मोहताज नहीं होती उसे बस राह चाहिए। ऎसी ही कई खिलाड़ी वाराणसी जनपद में भी हैं जो गरीब तो हैं पर उनकी प्रतिभा का लोहा हर एक मानता है, पर इस लॉकडाउन में कई प्रतिभावान खिलाड़ियों को काफी मुश्‍कि‍लों का सामना करना पड़ रहा है।

ऐसी ही एक खिलाड़ी हैं वाराणसी की सोनाली कन्नौजिया। नेशनल स्कूल कबड्डी प्लेयर सोनाली लॉकडाउन में वर्क आउट तो कर रही हैं पर पेट की आग बुझाने के लिए उन्हें पिता के साथ लॉन्‍ड्री का काम भी करना पड़ रहा है।

सोनाली से बातचीत किया गया तो उसने बताया कि वो महामना मालवीय इंटर कालेज बच्छांव की छात्रा है। कबड्डी में शुरू से लगाव था तो स्कूल टीचर ने इस खेल को खेलने के लिए कहा।

इस खेल को खेलना शुरू किया तो फिर पीछे मुड़ के नहीं देखा। अब तक अपने स्कूल की तरफ से मैं कई स्टेट और नेशनल स्कूल प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले चुकी हूँ। मेरी इच्छा है कि इंटरनेशनल कबड्डी प्लेयर बनूं पर लॉकडाउन में सारे सपने टूटते दिख रहे हैं। घर चलाने के लिए पापा के साथ काम करती हूँ। कपड़ों को प्रेस कर देती हूँ।घर वालो के अनुसार पिता के साथ हाथ बताने के बाद सोनाली रोज़ उठकर अपना वर्क आउट ज़रूर करती हैं।

सोनाली के पिता श्यामू प्रसाद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के हॉस्टल्स में रहने वाले छात्रों का कपड़ा धोने और प्रेस करने का काम करते हैं पर लॉकडाउन में उनका काम बंद है। बातचीत में श्यामू ने बताया कि लॉकडाउन ने हमारे परिवार की परवरिश रोक दी। बस किसी तरह से गुज़ारा हो रहा है।

सोनाली कबड्डी की अच्छी प्लेयर है पर जब सब बंद है तो वह भी मेरे साथ हाथ बंटा रही है। आस-पड़ोस के रोज़ दस से बारह कपडे मिल जाते हैं उसी से खर्चा जैसे तैसे चल रहा है।