" /> लॉकडाउन में विदेश से घर आया था युवक, अब गांव में सब्जी उगाकर कमा रहा हजारों रुपए

लॉकडाउन में विदेश से घर आया था युवक, अब गांव में सब्जी उगाकर कमा रहा हजारों रुपए

– लॉकडाउन के कारण दोबारा काम पर नहीं लौट पाए रमाकांत
– कमाई का जरिया बंद होने के बाद सूझी तरकीब 

बस्ती जिले के भतरिंहा जोत निवासी रमाकांत दुबे मस्कट में कारपेंटर थे। वे लॉकडाउन से दो माह पहले घर आए थे। कोरोना संक्रमण के कारण वे दोबारा मस्कट नहीं लौट पाए। आय का जरिया बंद होने के बाद रमाकांत को सब्जियों की खेती की तरकीब सूझी।
रमाकांत ने बताया कि उनके आस-पास कई लोग सब्जी की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। लॉकडाउन में आय का स्रोत पूरी तरह से बंद हो जाने के कारण उनके सामने आर्थिक समस्या थी। बताते हैं कि करीब 30 हजार का इंतजाम कर चार बीघा जमीन पर मक्का, लौकी, नेनुआ, लोबिया, अरवी लगाया। फसल अच्छी हुई है और अब तक करीब 80 हजार का उत्पाद बेच चुके हैं। फुटकर कारोबारी खेत से ही सब्जी खरीदकर मंडी ले जाते हैं। इससे उनका समय बचता है। मुनाफा अच्छा होता देख इस काम में परिजन भी साथ दे रहे हैं। बताते हैं कि वह आगे बड़े पैमाने पर सब्जियों की खेती करने का विचार कर रहे हैं।