" /> लॉकडाउन में शादी न घोड़ी, न बैंड-बाजा, ऑटो में सवार होकर आए दूल्हे राजा

लॉकडाउन में शादी न घोड़ी, न बैंड-बाजा, ऑटो में सवार होकर आए दूल्हे राजा

– तीन साल तक नहीं था शादी का शुभ योग
– लॉकडाउन में ही ऑटो से दुल्हन के घर पहुंचा दूल्हा

शादी की तारीख पहले से तय थी। मगर लॉकडाउन के कारण शादी समारोह के आयोजन को लेकर मुश्किल खड़ी हो गई। अगले तीन साल तक शादी का शुभ योग भी नहीं बन रहा था, ऐसे में प्रशासन से अनुमति के बाद दूल्हा ऑटो में सवार होकर दुल्हन के घर पहुंच गया। वैवाहिक रस्में पूरी करने के बाद उसी ऑटो से अपनी दुल्हनिया को विदा कराकर ले गया।

बता दें कि आगरा के ताजगंज क्षेत्र के संजय कॉलोनी निवासी अमर कुमार एक हैंडीक्रॉफ्ट शोरूम में काम करते हैं। चार महीने पहले अमर का रिश्ता जगदीशपुरा की युवती से तय हुआ। शादी की तारीख 18 मई तय कर ली गई। इसके बाद तीन साल तक कोई शुभ मुहूर्त नहीं था। इस पर दोनों परिवारों ने तैयारी शुरू कर ली।

इसी दौरान 25 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन हो गया। अमर और उनके परिवार को लगा कि दो से तीन सप्ताह में स्थिति सामान्य हो जाएगी। बारात जाने से पहले लॉकडाउन खुल जाएगा। परिवार शादी की तैयारी में लगा रहा।

सादगी से शादी की रस्म पूरी कर दुल्हन को विदाकर ले गया दूल्हा
18 मई से लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू हो गया। ऐसे में ज्योतिषी से शादी की दूसरी तारीख निकलवाने के लिए बात की लेकिन उन्होंने तीन साल तक कोई योग नहीं बनने की बात कही। इस पर अमर और उनके परिवार ने सात फेरों की रस्म पूरी करके दुल्हन को विदा कराकर लाने का फैसला किया।

परिचित सागर सिंह के मुताबिक दूल्हे और उसके घरवालों ने प्रशासन से शादी की अनुमति मांगी। अनुमति मिलने के बाद दूल्हा अमर परिवार के चुनिंदा लोगों के साथ ऑटो से जगदीशपुरा दुल्हन के दरवाजे फेरों की रस्म पूरी करने गया। कुछ घंटे बाद दुल्हन को विदा कराके साथ ले आया। इस दौरान परिवार के चंद लोग ही साथ रहे।