" /> लॉकडाउन में 13 हजार से अधिक नपे : 1,887 अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर

लॉकडाउन में 13 हजार से अधिक नपे : 1,887 अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर

मुंबई में कोरोना का प्रकोप दिन-प्रतिदिन बढ़ता चला जा रहा है। शुक्रवार को शहर में 1,751 नए मामले देखने को मिले, वहीं राज्य में यह आंकड़ा 2,940 का था। इसके बावजूद कई लोग लॉकडाउन का उल्लंघन कर रहे है। मुंबई पुलिस लगातार ऐसे लोगों पर कार्रवाई कर रही है। पुलिस ने शुक्रवार तक 13 हजार 992 लोगों के खिलाफ लॉकडाउन के उल्लंघन के आरोप में मामला दर्ज किया है, वहीं 1,887 आरोपियों की तलाश जारी है।
लॉकडाउन का असर 22 मार्च यानी जनता कर्फ्यू के दिन से ही दिखने लगा था। आपातकालीन यातायात को छोड़कर बाकी सभी तरह की सेवाएं ठप्प हो गई थीं। पूरी तरह लॉकडाउन होने के बाद कई लोग इसका पालन नहीं कर रहे हैं, यही वजह है कि पुलिस को मजबूरन कार्रवाई करनी पड़ रही है। बता दें कि अंटोप हिल, धारावी, भिंडी बाजार, कुर्ला जैसे इलाके भीड़-भाड़ वाले इलाकों में शमिल हैं। यहां चॉल में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने मुंबई में मास्क पहनना जरूरी कर दिया था। लेकिन इसके बावजूद, कुछ लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। पुलिस ने मास्क न पहनने के आरोप में 2,199 के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

सार्वजनिक स्थलों पर भीड़भाड़ के मामले
सार्वजनिक स्थलों पर इक्कठा होने की मनाई है, लेकिन लॉकडाउन के बीच घाटकोपर स्थित पंत नगर में एक सोसाइटी में समोसा पार्टी की खबर सामने आई थी, वहीं डोंगरी में एक व्यक्ति के दाह संस्कार में करीब 100 से अधिक लोग शामिल थे। पुलिस ने सार्वजनिक जगहों में इकट्ठा होने के 4,277 मामले दर्ज किए हैं।

संक्रमण है गंभीर फिर भी मुनाफा है जरूरी
प्रशासन ने पहले ही साफ कर दिया था कि जरूरी दुकानों के अलावा किसी भी तरह की कोई दुकान को नहीं खोला जाना चाहिए। लेकिन कुछ लोग मुनाफा कमाने के लिए दुकान खोल रहे हैं। पान की टपरी खोलकर दुकानदारों द्वारा दुगने दामों में पान मसाला अवैध तरीके से बेचने की खबरें भी सामने आई हैं। ऐसी दुकानों पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 327 मामले दर्ज किए हैं। इसी तरह वाहनों पर नकेल कसते हुए पुलिस ने 1,175 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया और कइयों की गाड़ियां भी जब्त कर ली। मुंबई पुलिस ने 13 हजार 992 आरोपियों में से 3,680 आरोपियों को नोटिस देकर छोड़ दिया है, वहीं 8,425 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इसके अलावा 1,887 आरोपी अभी भी पुलिस के गिरफ्त से बाहर हैं।