" /> लॉकडाउन से आम के बाजार पर लगा ग्रहण

लॉकडाउन से आम के बाजार पर लगा ग्रहण

गर्मियां तेज होते ही फलों के राजा आम की मांग शुरू हो जाती है लेकिन लॉकडाउन के कारण इस बार आम के व्यापार पर ग्रहण लगा हुआ है। दक्षिण भारत के राज्यों से आम नहीं आ पा रहा है। हालांकि कुछेक फलों के ठेलों पर जरूर तोतापरी और बादामी आम नजर आने लगे हैं, जो आम के स्वाद के चाहनेवालों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं। अप्रैल के शुरुआती सप्ताह में ही आम का बाजार हर साल शुरू हो जाता है। दक्षिण भारत के कर्नाटक, तेलंगाना और आंध्र के अधिकांश व्यापारी कोरोना के कारण इन राज्यों से आम नहीं मंगा रहे हैं। फल विक्रेता आजाद के अनुसार अप्रैल के प्रारंभ से आम का बाजार शुरू हो जाता है लेकिन कोरोना के कारण इसका बाजार इस बार प्रभावित हो गया है। झांसी से आम ललितपुर, टीकमगढ़ सहित कई स्थानों पर जाता था। मैंगो शेक व सलाद में स्वाद लेते हैं बादामी व तोतापरी का बादामी आम का स्वाद अधिकांश लोग मैंगो शेक और सलाद के रूप में लेते हैं। बाजार में फलों के ठेलों पर बादामी और तोतापुरी आम 60 से 70 रुपए के बीच बिक्री में हैं, वहीं बरसात शुरू होते ही लखनऊ का दशहरी आम बाजार में बिकना शुरू हो जाएगा। हालांकि अभी सब्जियों की दुकानों में कच्चे आम की बिक्री खूब हो रही है, जो इन दिनों 40 से 50 रुपए किलो में बिक रही है।