" /> लॉक डाउन का साइड इफेक्ट : सायबर क्राइम में मुंबई-3 नंबर पर

लॉक डाउन का साइड इफेक्ट : सायबर क्राइम में मुंबई-3 नंबर पर

कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण राज्य सहित देश मे लॉक डाउन जारी है। इस दौरान कई असामाजिक तत्वों ने लॉक डाउन का फायदा उठाकर सायबर क्राइम की घटना को अंजाम दिया है। इस मामले में मुंबई -3 नंबर पर है जबकि बीड पहले नंबर और पुणे ग्रामिण इलाका दूसरे नंबर पर है। महाराष्ट्र सायबर क्राइम से प्राप्त जानकरी के अनुसार कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन के दौरान सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक, ट्वीटर और टिकटॉक पर आपत्तिजनक संदेश और कमेंट डालकर राज्य की शांति को भंग करने की कुछ लोगों ने कोशिश की। इस दौरान महाराष्ट्र साइबर अपराध विभाग ने उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है और राज्य में 242 मामले दर्ज किए गए हैं।

जानकारी के अनुसार टिकटॉक, फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल साइट पर किए गए आपत्तिजनक कमेंट के संबंध में राज्य के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में 242 मामलों दर्ज किए गए हैं, जिसमे से 8 मामले एन.सी. के रूप में दर्ज किए गए है। इनमें बीड 27, पुणे रूरल 19, मुंबई 17, कोल्हापुर 16, जलगांव 14, सांगली 10, नासिक रूरल 10, जालना 9, सतारा 8, नाशिक सिटी 8, नांदेड़ 7, परभणी 7, ठाणे सिटी 6, सिंधुदुर्ग 6, नागपुर सिटी शामिल हैं। 5, नवी मुंबई 5, सोलापुर ग्रामीण 5, लातूर 5, बुलढाणा 5, पुणे सिटी 4, गोंदिया 4, ठाणे ग्रामीण 4, सोलापुर सिटी 3, रायगढ़ 2, हिंगोली 2, वाशिम 1, धुले 1 मामले दर्ज किए गए है। सभी अपराधों का विश्लेषण करने के बाद, यह पाया गया कि आपत्तिजनक व्हॉट्सएप संदेशों को वाइरल करने के मामले में, आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट साझा करने के मामले में 110 मामले दर्ज किए गए हैं। टिकटॉक वीडियो शेयर मामले में 4 और ट्विटर के माध्यम से आपत्तिजनक ट्वीट करने के मामले में 3 अपराध हुए हैं। अन्य सोशल मीडिया (ऑडियो क्लिप, यूट्यूब) के दुरुपयोग के 41 मामले सामने आए हैं। अब तक 47 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जबकि 31 आपत्तिजनक पोस्ट हटाए गए है।