" /> लॉक डाउन के बाद परप्रांतीय श्रमिकों को घर जाने के लिए मुंबई व पुणे से विशेष ट्रेन छोड़ने की मांग

लॉक डाउन के बाद परप्रांतीय श्रमिकों को घर जाने के लिए मुंबई व पुणे से विशेष ट्रेन छोड़ने की मांग

उपमुख्यमंत्री ने लिखा रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र

केंद्र सरकार द्वारा घोषित लॉक डाउन की अवधि 3 मई को समाप्त हो रही है। लॉक डाउन की अवधि बीतने के बाद मुंबई, पुणे सहित राज्य में जगह-जगह फंसे लाखों परप्रांतीय श्रमिकों को गांव भेजने के लिए विशेष ट्रेन छोड़ने की मांग उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर की है।
गांव जाने के लिए परप्रांतीय श्रमिकों की भारी पैमाने पर भीड़ उमड़ जाती है, जिसके कारण कानून-व्यवस्था बिगड़ने की स्थिति उत्पन्न होने की संभावना है।

रेल मंत्रायलय मुंबई व पुणे से देश के विभिन्न भागों में जाने के लिए विशेष ट्रेन छोड़े। इसके लिए पहले से नियोजन करने की मांग अजीत पवार ने रेल मंत्री को लिखे पत्र में की है। इस संदर्भ में गम्भीरता से विचार करने की मांग भी पवार ने पत्र में की है। राज्य सरकार की ओर से लॉक डाउन में फंसे सात लाख श्रमिकों को निवास, भोजन, स्वास्थ्य की व्यवस्था राहत शिबिर कार्य के माध्यम से किया जा रहा है। मुंबई व पुणे से विशेष ट्रेन छोड़ने से कानून व्यवस्था बनाए रखने में सुविधा होगी। ताकि बांद्रा जैसी घटना पुनः न हो सके, ऐसा उल्लेख पत्र में पवार ने किया है।