‘वायु’ लगा रहा बादलों की वाट!, साइक्लोन खींच रहा है मुंबई का मॉनसून

– समुद्र से बच के
– ६ मीटर तक उठ सकती है लहर
– ५० किमी से अधिक रहेगी रफ्तार

रविवार रात को बिजली के चमकने और बादलों की गड़गड़ाहट के बाद मुंबई के कुछ क्षेत्रों में बारिश हुई। सायन, वडाला, गोवंडी, अंधेरी में कुछ मिनटों के लिए ही सही अच्छी बारिश हुई। बारिश की फुहार देख मुंबईकरों को लगा कि अब उमसभरी गर्मी से उन्हें छुट्टी मिल जाएगी। यह प्री-मॉनसून उन्हें चिपचिपाहट भरी गर्मी से राहत दिलाएगा लेकिन कल सोमवार को आसमान में धूप-छांव का खेल जारी रहा और बारिश का दूर-दराज तक कोई अता-पता नहीं था। उमस और गर्मी से लोगों का हाल-बेहाल रहा। मौसम के जानकारों का कहना है कि दक्षिण-पूर्वी अरब सागर, लक्षद्वीप और पूर्व-मध्य अरब सागर के ऊपर निम्न दबाव वाला क्षेत्र बन गया है, जिसने चक्रवात का रूप ले लिया है। अब यह चक्रवात दक्षिण अरब सागर से उत्तर की ओर बढ़ रहा है। यूं तो चक्रवात जब भी आता है तो अपने संग तेज हवा और जोरदार बारिश लाता है लेकिन यह चक्रवात मुंबई के तट से लगभग ३५० किमी दूर होने के कारण बारिश देनेवाले बादलों को अपने अपनी ओर खींच रहा है। इस चक्रवात का नाम वायु रखा गया है। अब ये वायु मुंबई के मॉनसून की वाट लगा रहा है। वरना अब तक तो मुंबई में मॉनसून का आगमन हो चुका होता। जबकि दक्षिण कोकण और गोवा में भारी बरसात की चेतावनी भी दी गई है। हालांकि कुछ वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि मुंबई को आगामी दो से तीन दिनों में अच्छी बारिश मिल सकती है।

मुंबई के समुद्री बीच सैलानियों के लिए हमेशा से आकर्षण का केंद्र रहे हैं। उमसभरी गर्मी से राहत के लिए लोग अपने दोस्तों व अभिभावक अपने बच्चों के साथ समुद्री बीचों पर नहाने का लुत्फ उठाते हैं लेकिन अब उन्हें अगले ४ से ५ दिनों तक बीच पर नहाने से बचना होगा। अरब सागर में निम्न दबाव का क्षेत्र बन गया है जो आगे चलकर चक्रवात में तब्दील हो जाएगा। फिलहाल इसका नाम वायु रखा गया है। वायु चक्रवात के कारण समुद्र में काफी हलचल होगी और ऊंची लहरे उठेंगी, ऐसे में मौसम विभाग ने पश्चिमी तट पर अलर्ट जारी कर सभी को समुद्र बीच पर जाने और वहां नहाने से बचने की हिदायत दी है।

बता दें कि ‘वायु’ चक्रवात दक्षिण अरब सागर से उत्तर की ओर बढ़ेगा। कयास यह लगाए जा रहे हैं कि यह गुजरात के सौराष्ट्र को हिट कर सकता है। मौसम विशेषज्ञ दिनेश मिश्रा ने बताया, ‘वायु महाराष्ट्र के तट से लगभग ३५० किमी दूर से गुजरेगा। दूर होने के कारण यह मॉनसून के बादलों को अपनी ओर खींचेगा। इस सिस्टम के चलते मुंबई का मॉनसून १५ तारीख तक खींच गया है। मुंबई में देर शाम व रात के समय प्री-मॉनसून वर्षा होगी।’ स्काईमेट के प्रमुख मेट्रोलॉजिस्ट महेश पालावत ने कहा, ‘मुंबई में प्री-मॉनसून बरसात की शुरुआत हो चुकी है लेकिन मॉनसून के लिए अब भी ४ से ५ दिनों का इंतजार करना पड़ेगा। गौरतलब है कि रविवार को मुंबई में ३.३ एमएम बारिश हुई थी। सोमवार को शहर का अधिकतम तापमान ३५. ५ डिग्री सेल्सियस रहा।