" /> विधायक अमनमणि बिजनौर में गिरफ्तार, लॉकडाउन में कल बद्रीनाथ जाते समय दर्ज हुआ था मुकदमा

विधायक अमनमणि बिजनौर में गिरफ्तार, लॉकडाउन में कल बद्रीनाथ जाते समय दर्ज हुआ था मुकदमा

यूपी के महाराजगंज जिले की नौतनवा सीट से निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी को बिजनौर के नजीबाबाद में गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कल लॉकडाउन के बीच दस लोगों के साथ बदरीनाथ और केदारनाथ जाने के लिए पास बनवाया था, लेकिन चमोली के जिला प्रशासने बदरीनाथ के कपाट नहीं खुलने का हवाला देते हुए उन्हें चमोली जिले की सीमा से लौटा दिया। पुलिस के मुताबिक, विधायक ने जो पत्र दिखाया, उसमें उन्होंने यूपी के सीएम आदित्यनाथ के पिता के पितृ कर्म के लिए बदरीनाथ-केदारनाथ जाने की बात कही थी।

वहीं दूसरी ओर यूपी सरकार के प्रवक्ता ने विधायक अमनमणि त्रिपाठी के उत्तराखंड राज्य जाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा अधिकृत किए जाने के सम्बन्ध में आए समाचार को असत्य, भ्रामक एवं आधारहीन बताया। उन्होंने कहा कि विधायक ने भ्रामक रूप से तथ्यों को मुख्यमंत्री के साथ जोड़कर आपत्तिजनक कृत्य किया है। प्रवक्ता ने कहा कि विधायक अमन मणि त्रिपाठी को उत्तराखंड राज्य जाने के लिए न तो मुख्यमंत्री ने और न ही राज्य सरकार द्वारा अधिकृत किया गया है। श्री त्रिपाठी अपने कृत्य के लिए स्वयं उत्तरदायी है।

हरिद्वार के रोड़ीबेलवाला बैरियर पर कार रोकने पर विधायक अमनमणि त्रिपाठी ने अपने साथियों के साथ चौकी पर हंगामा किया। आरोप है कि विधायक ने सप्तऋषि बैरियर पर पुलिस के हाथ देने के बावजूद कार नहीं रोकी। बाद में दोनों कारों को रोड़ीबेल वाला चौकी बैरियर पर रुकवाया गया। पुलिस ने विधायक समेत दो लोगों की कार का चालान किया और दोनों के लाइसेंस जब्त कर दिए। इसके बाद विधायक यूपी के लिए रवाना हो गए। विधायक के हंगामे के बाद पुलिस ने विधायक की कार समेत दो कारों के चालान कर दिए। पुलिस ने विधायक अमनमणि पुत्र अमरमणि निवासी महाराजगंज यूपी और रितेश यादव पुत्र सुरेश यादव निवासी बिछिया कॉलोनी गोरखपुर के लाइसेंस सीज कर दिए हैं। एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने बताया कि वाहन न रोकने पर कार का चालान किया गया और लाइसेंस जब्त किए गए हैं।
उत्तराखंड पुलिस के मुताबिक रविवार को यह सभी लोग तीन कारों में सवार होकर बदरीनाथ आ रहे थे। चमोली जिले की सीमा पर चेकिंग के दौरान पुलिस और प्रशासन की टीम ने इन्हें आगे जाने से रोककर वापस भेज दिया। टिहरी जनपद स्थित मुनीकीरेती में लॉकडाउन का उल्लंघन करने समेत अन्य धाराओं में मुकदमा भी दर्ज किया गया है। पुलिस अधीक्षक यशवन्त सिंह चौहान ने बताया कि विधायक अमनमणि त्रिपाठी समेत 10 लोगों को चमोली जिले की सीमा में प्रवेश करने की अनुमति इसलिए नहीं दी गई, क्योंकि अभी बदरीनाथ के कपाट खुले ही नहीं हैं। चौहान ने बताया कि इन लोगों ने बताया कि, उनके पास उत्तराखंड के अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश द्वारा जारी अनुमति पत्र है।

योगी के पिता के पितृ कार्य का दिया हवाला
एसपी ने बताया कि इन लोगों ने कहा कि, वे उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री के स्वर्गीय पिता के पितृ कार्य के लिये बदरीनाथ धाम जा रहे हैं। इसके बाद उन्हें केदारनाथ भी जाना है। लेकिन प्रशासन ने सख्ती के साथ इन सभी को लौटा दिया।

उत्तराखंड सरकार करा रही जांच
यूपी के निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी समेत दस लोगों को बदरीनाथ और केदारनाथ का पास जारी होने को उत्तराखंड सरकार ने अफसरों की बड़ी चूक माना है। चूक किस स्तर पर हुई और क्यों हुई इसकी पड़ताल की जा रही है। सभी तथ्य सामने आने के बाद इस मामले में कार्रवाई की जाएगी। सोमवार को सरकारी प्रवक्ता और उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने पत्रकारों से बातचीत में यहा कहा।