" /> वेलंकनी माता की यात्रा रद्द

वेलंकनी माता की यात्रा रद्द

संपूर्ण देश में फैली कोरोना महामारी के कारण विगत मार्च माह से सभी धार्मिक स्थलों को बंद रखने के आदेश दिए गए हैं। चेन्नई के नागपट्टम में स्थित प्रसिद्ध वेलंकनी माता की ६ जुलाई से १६ जुलाई तक की यात्रा भी इसी कारण से रद्द कर दी गई है। ऐसी जानकारी भाइंदर पश्चिम उत्तन के वेलंकनी माता कोली यात्री संगठन के सचिव विलियम गोविंद ने दी है।

वेलंकनी माता ईसाई समाज के कोली व मछुआरों की पूजनीय माता हैं। महाराष्ट्र में ३१ मई से ३० जुलाई के मध्य समुद्र में मछली पकड़ने पर पाबंदी रहती है, इसलिए प्रतिवर्ष चेन्नई में ६ जुलाई से १६ जुलाई के मध्य संपन्न होने वाली वेलंकनी माता की यात्रा में मीरा-भाइंदर , मुंबई, ठाणे ,नई मुंबई, पनवेल ,पालघर तथा देश विदेश के हजारों श्रद्धालु व दर्शनार्थी इस यात्रा में शामिल होते हैं। रेलवे प्रशासन इस दौरान इस यात्रा के लिए विशेष ट्रेन की व्यवस्था भी करती है।
विलियम गोविंद ने सभी श्रद्धालुओं से इस वर्ष यात्रा के लिए रेलवे का आरक्षण नहीं कराने तथा जिन्होंने अपना आरक्षण करा लिया है। उन्हें अपने आरक्षण रद्द करा देने का आवाहन किया है। साथ ही इस यात्रा के लिए परिस्थिति अनुसार बाद में निर्णय लिए जाने की बात भी कही है।
चेन्नई के नागापट्टम की तरह ही भाइंदर पश्चिम के भाटेबंदर में भी समुद्र किनारे वेलंकनी माता का भव्य मंदिर है। यहां भी प्रतिवर्ष २९ अगस्त से ८ सितंबर के मध्य भव्य यात्रा का आयोजन किया जाता है। जहां दर्शन के लिए हजारों श्रद्धालु व यात्री आते हैं। वर्तमान में कोरोना के कारण यह मंदिर भी बंद रखा गया है और सभी को अपने घरों से ही पूजा -आराधना करने की अपील की गई है, ऐसी जानकारी स्थानीय शिवसेना नगरसेविका शर्मिला बगाजी ने दी है।