" /> वैक्सीन आने के बाद भी रहेगा कोरोना का खतरा! डब्ल्यूएचओ के निदेशक का खुलासा

वैक्सीन आने के बाद भी रहेगा कोरोना का खतरा! डब्ल्यूएचओ के निदेशक का खुलासा

 – एचआईवी का दिया गया तर्क
-खसरा रोग की तरह है कोरोना

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के निदेशक (आपदा) डॉ. माइक रयान ने कोरोना वायरस (कोविड 19) के भविष्य में खत्म होने संबंधी दावों को खारिज करते हुए चेतावनी दी है कि वैक्सीन का पता लगने के बाद भी इसके संक्रमण का खतरा बना रह सकता है। डॉ. रयान ने कल स्विटजरलैंड में अंतरराष्ट्रीय जनस्वास्थ्य संघ के मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि ये तथ्य बहुत महत्वपूर्ण हैं कि कोरोना वायरस कभी खत्म नहीं हो सकता और यह दूसरे संक्रामक रूप में हमारे समाज में सामने आ सकता है। उन्होंने कहा कि एचआईवी दूर नहीं हुआ है लेकिन हम उसके बारे में ज्यादा जान गए हैं। अगर कोई अनुमान व्यक्त करता है कि यह बीमारी कब खत्म होगी तो मैं इस पर यकीन नहीं कर सकता। डॉ. रयान ने कहा कि अगर वैक्सीन का पता लगा लिया जाए तो भी इस संक्रमण पर नियंत्रण के लिए व्यापक प्रयासों की जरुरत होगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में 100 से भी अधिक वैक्सीन है लेकिन खसरा जैसी अन्य बीमारियां वैक्सीन होने के बावजूद खत्म नहीं हो सकी हैं।

भारत में कोरोना वायरस का कहर जारी है। लॉकडाउन का तीसरा चरण खत्म होने को है, बावूजद इसके संक्रमण की रफ्तार धीमी नहीं हुई है। देश में कोरोना वायरस का आंकड़ा 78 हजार पार कर गया है। पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 3,722 नए मामले सामने आए हैं और कोविड-19 से 134 लोगों की मौत हुई है। गुरुवार को जारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर करीब 78,003 हो गए हैं और कोविड-19 से अब तक 2,549 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना के कुल 78,003 केसों में 49219 एक्टिव केस हैं, वहीं 26,235 लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है या फिर वह ठीक हो चुके हैं। कोरोना वायरस से अब तक सर्वाधिक 975 लोगों की मौत महाराष्ट्र में हुई। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस की सबसे अधिक तबाही देखने को मिल रही है। महाराष्ट्र में कोविड-19 के कुल 25,922 पॉजिटिव केस मिल चुके हैं। इनमें से 5,547 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें छुट्टी दे दी गई है। इस राज्य में अब तक सबसे अधिक 975 लोगों की जान जा चुकी है।