" /> वो बंदा अलग है!

वो बंदा अलग है!

पूर्व सलामी बल्लेबाज लालचंद राजपूत का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में पूर्व कप्तान और मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का मिश्रण है। राजपूत ने कहा कि गांगुली की भारत में क्रिकेट खेलने के तरीके में बदलाव लाने में एक बड़ी भूमिका रही और धोनी इसे आगे लेकर गए, जब वह २००७ में टीम के कप्तान बने। राजपूत ने कहा, ‘गांगुली खिलाड॰ियों को आत्मविश्वास देते थे और उन्होंने भारतीय टीम की मानसिकता में बदलाव किया और मुझे लगता है कि धोनी इसी चीज को लेकर आगे गए। अगर धोनी को लगा कि किसी खिलाड़ी में काबिलियत है, वो उन्हें पूरे मौके देने की कोशिश करते थे। पूर्व मैनेजर ने कहा कि धोनी की कप्तानी में राहुल द्रविड़ और गांगुली का मिश्रण है। उन्होंने कहा, ईमानदारी से कहूं तो वो काफी शांत रहते हैं। एक कप्तान को मैदान पर रहते हुए पैâसले लेने होते हैं और वो दो कदम आगे की सोचते हैं। एक चीज जो मुझे उनकी अच्छी लगती है कि वो सोचने वाले कप्तान हैं। उनकी कप्तानी में राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली का मिश्रण है। गांगुली काफी आक्रामक कप्तान थे। धोनी का भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल कप्तानों में शुमार होता है। उनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने दिसंबर २००९ में आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर-१ स्थान पर कब्जा कर किया था। धोनी एकमात्र ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने टीम इंडिया को तीन बड़े आईसीसी खिताब (टी२० वर्ल्ड कप २००७, वर्ल्ड कप २०११ और चैम्पियंस ट्रॉफी २०१३) दिलवाए।