" /> शिवसेना राम मंदिर आंदोलन के लिए हमेशा समर्पित रही! कहते हैं अयोध्या के धर्माचार्य

शिवसेना राम मंदिर आंदोलन के लिए हमेशा समर्पित रही! कहते हैं अयोध्या के धर्माचार्य

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आगामी ७ मार्च को अयोध्या आ रहे हैं। उनकी इस अयोध्या यात्रा को लेकर यहां खासा उत्साह है। त्याग एवं तपस्या की पीठ सियाराम किला झुनकी घाट के महंत करुणानिधान शरण ने कहा कि उद्धव ठाकरे का अयोध्या में जोरदार स्वागत है। राम भक्त के रूप में वे जब कभी आएंगे, उनका हमेशा स्वागत रहेगा। उनकी यात्रा को लेकर हम सभी उत्साहित हैं। नया घाट स्थित विजय राघव मंदिर नई छावनी के महामंडलेश्वर स्वामी महावीर दास महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा को लेकर बहुत उत्साहित हैं।

उन्होंने कहा कि शिवसेना राम मंदिर आंदोलन के लिए हमेशा समर्पित रही है। ऐसे में जब रामलला के मंदिर का निर्माण आरंभ हो चुका है तो उनकी अयोध्या यात्रा विशेष हो जाती है। उन्होंने कहा कि पहले मंदिर फिर सरकार जैसे नारे शिवसेना की वचनबद्धता को दोहराते हैं। उनका राम मंदिर निर्माण का संकल्प पूरा हुआ है। इन परिस्थितियों में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाती है। न केवल अयोध्या के साधु संत बल्कि राम मंदिर प्रेमियों में उनकी यात्रा को लेकर अपार हर्ष है और उनका हम सभी जोरदार स्वागत करेंगे।

सिद्ध पीठ नाका हनुमानगढ़ी के महंत रामदास मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि उद्धव ठाकरे का आगमन हिंदुत्व को उत्साहित करनेवाला है एवं राम भक्तों के हृदय को प्रसन्नता से भरनेवाला है। दैनिक सरयू आरती करनेवाली संस्था अंजनेय सेवा समिति के अध्यक्ष शशिकांत दास ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा का स्वागत किया है। उन्होंने कहा है कि सरयू भगवान श्रीराम की क्रीड़ा स्थली इस स्थल से उद्धव ठाकरे का गहरा लगाव है। वह पिछली बार अयोध्या आए तो सरयू आरती कर राम मंदिर निर्माण का संकल्प दोहराया था। श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का भी निर्माण कार्य शुरू हो गया है और वह मुख्यमंत्री भी बन चुके हैं। इसके बावजूद फिर वह रामलला का दर्शन कर सरयू आरती करना चाह रहे हैं। यह उनका पावन सलिला सरयू के प्रति अनुराग है, रामलला के प्रति समर्पण है और उनका राम भक्तों द्वारा स्वागत अभिनंदन है।