" /> श्रीराम जीवन के आधार स्तम्भ यह साक्षात संविधान है। यह धर्म के मेरूदंड जिनके स्मरण मात्र से मानव जीवन का कल्याण -महंत नृत्यगोपाल दास

श्रीराम जीवन के आधार स्तम्भ यह साक्षात संविधान है। यह धर्म के मेरूदंड जिनके स्मरण मात्र से मानव जीवन का कल्याण -महंत नृत्यगोपाल दास

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास महाराज ने आज यहां कहा कि श्रीराम जीवन के आधार स्तम्भ यह साक्षात संविधान है।यह धर्म के मेरूदंड जिनके स्मरण मात्र से मानव जीवन का कल्याण होता है। देश का वनवासी समाज सदैव भारतीय संस्कृतिऔर संस्काराें से जुड़ा रहा। श्रीराम और वनवासी समाज का संबंध चिरकाल तक देश को सामाजिक समन्वय के रूप मे स्मरण रहेगा। अयोध्या में निर्मित होनेवाला प्रभु श्री राम लला का मंदिर सामाजिक समन्वय को धारण करनेवाला देश का अति सुंदर मंदिर होगा

एकल विद्यालय अभियान तथा वनवासी रक्षा परिवार फाउंडेशन द्वारा आयोजित रामकथा प्रशिक्षण केन्द्र के वार्षिक दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे ।उन्हाेंने कहा वनवासी समाज का संबंध अयोध्या की पावन रज से सदैव जुड़ा रहा भगवान राम ने वनवासी समाज का उद्धार और कल्याण किया अब उनके आत्मीय वनवासी बंधु समाज का कल्याण श्रीराम कथा के माध्यम से करेंगे। इस देश और इसकी संस्कृति का यशोगान भारतीय वनवासी बंधुओं के द्वारा गांव गांव में होगी।उन्हो ने रामकथा प्रशिक्षार्थियों का उत्सवर्धन करते उन्हे हरसंभव सहयोग की अपील की।