" /> श्रीसंत की छटपटाहट

श्रीसंत की छटपटाहट

ये छटपटाहट है। लंबे समय से मैदान से दूर और लगातार विवादों में रहने के कारण यूं तो श्रीसंत का क्रिकेट करियर लगभग खत्म हो चुका है मगर एक उम्मीद के साथ वो मैदान पर लौटने की योजनाओं पर काम कर रहे हैं और विश्वास व्यक्त करते हैं कि हो न हो वो आईपीएल तो जरूर खेलेंगे। तेज गेंदबाज एस श्रीसंत के लिए ७ साल पहले इंडियन प्रीमियर लीग बुरा सपना बन गई थी। अब वह माइकल जॉर्डन के पूर्व ट्रेनर टिम ग्रॉवर से ‘मेंटल कंडिशनिंग’ का सबक सीखकर खेल में वापसी की तैयारियों में जुटे हैं। क्रिकेट में लंबे समय बाद वापसी के लिए श्रीसंत कोई भी कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। वह राष्ट्रीय बास्केटबॉल लीग (एनबीए) के मशहूर ‘फिजिकल एवं माइंड ट्रेनिंग कोच’ टिम ग्रॉवर से ऑनलाइन ‘मेंटल कंडिशनिंग’ की क्लास लेने के लिए तड़के पांच बजे उठ जाते हैं। माइकल जॉर्डन और कोबे ब्रायंट भी उनसे ट्रेनिंग ले चुके हैं। श्रीसंत ने कहा, ‘ग्रॉवर एनबीए में बड़े नामों में से एक हैं। मैं हफ्ते में तीन दिन सुबह साढ़े पांच बजे से साढ़े आठ बजे तक ऑनलाइन सत्र में हिस्सा लेता हूं। इसके बाद मैं अर्नाकुलम में इंडोर नेट में दोपहर डेढ़ बजे से शाम छह बजे तक ट्रेनिंग करता हूं जहां केरल अंडर-२३ और रणजी ट्रॉफी के काफी खिलाड़ी जैसे सचिन बेबी होते हैं।’आईपीएल २०१३ में स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण में कथित रूप से शामिल होने के लिए सात साल का निलंबन झेल चुके भारत के प्रतिभाशाली स्विंग गेंदबाजों में से एक श्रीसंत अब फिर से केरल के लिए सफेद रंग की ड्रेस पहनने के लिए तैयारी में जुटे हैं लेकिन यह तो उनके लक्ष्य का महज एक हिस्सा है। क्या वह २०२१ आईपीएल नीलामी में अपना नाम रखेंगे? तो उन्होंने कहा, ‘अगर मैं अच्छा प्रदर्शन करता हूं तो मैं निश्चित रूप से ऐसा करूंगा और मुझे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है।’