" /> श्री काशी विश्वनाथ मंदिर सहित काशी के प्रमुख मंदिरों को खोलने को लेकर चल रही है विशेष तैयारी

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर सहित काशी के प्रमुख मंदिरों को खोलने को लेकर चल रही है विशेष तैयारी

काशी में जल्द ही भक्तों के लिए मंदिरों को खोला जाएगा। इसके लिए काशी विश्वनाथ मंदिर प्रशासन ने जहाँ मंदिर खुलने से पहले की तैयारी शुरु कर दी है वही लॉकडाउन के चलते बंद नगर के अन्य देवालयों में भी भक्तों के लिए खोलने को लेकर विशेष तैयारी चल रही है। भक्तों के लिए बाबा का केवल झांकी दर्शन होगा। दर्शन के लिए उत्तर के दो गेट से प्रवेश मिलेगा जबकि निकासी दक्षिण दिशा से होगा।

प्रवेश द्वार पर सेनिटाइजेशन के लिए दो ऑटोमैटिक मशीनें लगेंगी। सोशळ डिस्टेंसिंग के लिए मंदिर परिसर में गोला बनाया जाएगा, श्रद्धालु इसी गोले में ही खड़े होंगे। दर्शन से लेकर आरती तक सभी जगह दो गज की दूरी बनानी आवश्यक होगी।

मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह ने बताया कि प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन के आदेश के बाद ही मंदिर खोला जाएगा। उसके पहले की तैयारी शुरु कर दी गई है। उन्होंने बताया कि गेट नंबर चार के पास ही आम भक्तों को प्रवेश दिया जाएगा। सभी श्रद्धालुओं की थर्मल स्कैनिंग होगी। इसके साथ ही लाइन में लगे भक्तों के बीच दो मीटर की दूरी रखी जाएगी।

मंदिर में भीड़ बढ़ने पर लाउडस्पीकर से भक्तों को जानकारी दी जाएगी कि वे दर्शन के लिए दूसरे वक्त भी आ सकते है। हेल्प डेस्क से सबसे कम भीड़ वाले समय में लोगों से दर्शन करने की अपील की जाएगी।

विशाल सिंह ने बताया कि जिस तरह आरती के पहले मंदिर में सफाई होती है, उसी तरह अब गर्भगृह सहित पूरे मंदिर परिसर को सैनिटाइज्ड किया जाएगा।

काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव के मंदिर में भी भक्तों के लिए मंदिर खोले जाने पर बाबा काल भैरव के दर्शन के लिए एक बार में सिर्फ 20 श्रद्धालु ही मंदिर में प्रवेश कर सकेंगे। इस सम्बन्ध में मंदिर प्रशासन तैयारियों में लगा हुआ है।

काल भैरव मंदिर में सोशल डिस्टेंसिंग का ख़याल रखते हुए एक बार में सिर्फ 20 श्रद्धालुओं को ही मंदिर में प्रवेश मिलेगा। इस मंदिर को भी सुबह और शाम दो बार अच्छी तरह से सेनीटाइज़ किया जाएगा। इसके अलावा संकटमोचन मंदिर, दुर्गा मंदिर और अन्य मंदिरों में मंदिर प्रशासन सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए मंदिर खोलने की रूपरेखा बनाने में लगा हुआ है।