संकटमोचन मंदिर को बम से उड़ाने की धमकी देनेवाला बिहार से धराया

संकट मोचन मंदिर को बम से उडा़ने की धमकी मामले में बिहार गई वाराणसी पुलिस टीम ने गुरुवार को दो लोगों को हिरासत में लिया है। सूत्रों के मुताबित गांव में आपसी विवाद के बाद दोनों व्यक्तियों को फंसाने के लिए उनके नाम से भेजा गया पत्र। 4 दिन पहले मंदिर को उड़ाने की धमकी वाला डाक से भेजा गया था पत्र।

इस गिरफ्तारी से तीन दिन पहले मंदिर को उड़ाने की धमकी वाला डाक से भेजा गया पत्र मंदिर के महंत प्रोफेसर विश्‍वंभरनाथ मिश्र को मिला था। पत्र में जमादार मियां और अशोक यादव के नाम के साथ जो मोबाइल नबंर लिखा था, उसी के जरिए पुलिस बिहार के चंपारण जिले में पहुंची। वहां एक गांव में जमादार मियां और अशोक अपने घरों पर मिले। जिस नंबर का उल्लेख पत्र में था, वह अशोक यादव के नाम पर पंजीकृत बताया जा रहा है।

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जमादार पंचर बनाने का काम करता है, जबकि अशोक की खाद-बीज की दुकान है। शुरुआती पूछताछ में जमादार और अशोक का गांव के एक व्यक्ति से विवाद होने की बात भी सामने आई है। जिस व्यक्ति से दोनों का विवाद है, उसका अहमदाबाद के एक कारोबारी से रिश्ता बताया जा रहा है।

अहमदाबाद डाक से भेजा गया था धमकी भरा पत्र।
मंदिर के महंत प्रोफेसर विश्‍वंभरनाथ मिश्र को धमकी भरा पत्र मिला था ।
इस पत्र में जमादार मियां और अशोक यादव के नाम के साथ जो मोबाइल नबंर लिखा था, उसी के जरिए पुलिस बिहार के चंपारण जिले से दो लोगों को हिरासत में लिया है ।