" /> सचमुच में फास्ट होगी फास्ट लोकल!, ठाणे-दिवा पांचवी, छठीं रेलवे लाइन का काम शुरू

सचमुच में फास्ट होगी फास्ट लोकल!, ठाणे-दिवा पांचवी, छठीं रेलवे लाइन का काम शुरू

ठाणे से दिवा पांचवी तथा छठीं रेल लाइन परियोजना का काम करीब ८५ प्रतिशत पूरा हो चुका है। इस परियोजना को पूरा करने का लक्ष्य जून २०२० निर्धारित किया गया था पर कोरोना महामारी तथा मजदूरों के पलायन की वजह से काम पूरा करने की अवधि एक साल और बढ़ गई है। इस परियोजना के पूरा होने पर न सिर्फ तेज लोकल ट्रेनों की संख्या में इजाफा होगा बल्कि कल्याण तथा ठाणे के बीच तेज लोकल गाड़ियों को बिना किसी बाधा के दौड़ने का रास्ता साफ हो जाएगा।
जून २०२१ तक पूरी होगी परियोजना
वर्ष २०१०-११ में शुरू हुई इस परियोजना को पूरा करने के लिए टनल, पुल तथा फ्लाईओवर का निर्माण किया जा रहा है। अभियंता अनिल कुमार गुप्ता का कहना है कि ठाणे से दिवा के बीच निर्माणाधीन पांचवी और छठीं रेल लाइन करीब १२ किमी लंबी है। कलवा-मुंब्रा के बीच स्थित पारसिक टनल से मुंब्रा स्टेशन तक निर्माणाधीन फ्लाईओवर का काम ८५ से ९० प्रतिशत पूरा हो चुका है। जो काम पहले ढाई सौ मजदूरों के साथ किया जा रहा था, वह अब ३० से ४० मजदूरों के साथ किया जा रहा है। दिसंबर तक इसे पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ठाणे से दिवा के बीच पांचवी-छठीं रेलवे लाइन का काम करीब ९० प्रतिशत पूरा हो चुका है। सिर्फ ६ महीने का काम बाकी है। कोरोना महामारी, मजदूरों की समस्या तथा मॉनसून को देखते हुए रेलवे लाइन का काम जून २०२१ तक पूरा कर लिए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
मिलेगा यात्रियों को फायदा
दिवा से ठाणे के बीच जिन रेलवे लाइनों से मेल गाड़ियों का आवागमन होता है, उसी ट्रेक पर फास्ट या सेमीफास्ट लोकल गाड़ियां भी चलती हैं। मेल गाड़ियों को पास देते समय अक्सर तेज लोकल गाड़ियों को दिवा तथा कलवा के बीच रोक दिया जाता है। कल्याण से डोंबिवली तथा ठाणे से मुबई आने-जाने के लिए मेल गाड़ियों का अलग फास्ट ट्रैक है। दिवा तथा ठाणे के बीच अलग फास्ट ट्रैक न होने की वजह से मेल तथा फास्ट लोकल एक ही ट्रेक पर चलती हैं। पांचवीं-छठीं लाइन का काम पूर्ण हो जाने पर मेल तथा फास्ट लोकल के लिए अलग-अलग ट्रैक उपलब्ध हो जाएगा। फास्ट लोकल की संख्या में बढ़ोत्तरी हो जाएगी। यात्रियों को राहत मिलेगी और लोकल के बीच में रुकने का सामना उन्हें नही करना पड़ेगा।