" /> सरकारी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारी रहेंगे! रेलवे, बसों में यात्री क्षमता कम होगी – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

सरकारी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारी रहेंगे! रेलवे, बसों में यात्री क्षमता कम होगी – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

कोरोना से मुकाबला करने के लिए संक्रमण को कम करना आवश्यक है। भीड़ पर नियंत्रण करने से यह संभव होगा। इस संबंध में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बैठक लेकर कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। इसमें राज्य के सरकारी कार्यालयों में एक-एक दिन के अंतर पर (अल्टरनेट) ५० प्रतिशत के हिसाब से कर्मचारियों की उपस्थिति रखी जाएगी। इसी प्रकार रेलवे, एसटी बस, मेट्रो आदि सार्वजनिक वाहनों को ५० प्रतिशत यात्री क्षमता से चलाने का निर्देश दिया गया है। मुंबई की बेस्ट बसों में खड़े रहनेवाले यात्रियों को प्रवेश बंद किया जाएगा। इसी प्रकार यात्रियों को थोड़ी दूरी बनाकर बैठने की भी जानकारी दी जाएगी। शहर में बसों की संख्या बढ़ाने के लिए वैकल्पिक बसों की व्यवस्था की जाएगी।
दुकानों का समय निश्चित होगा
शहरों में दुकानों को खोलने का समय निर्धारित किया जाएगा। सभी दुकानों के दिन और समय निर्धारित किए जाएंगे। जैसे एक क्षेत्र का बाजार सोमवार को खुला तो दूसरे क्षेत्र की दुकानें मंगलवार को खुलेंगी।
साधन सामग्री रहेगी उपलब्ध
दवाखानों, मेडिकल कॉलेजेस में सभी प्रकार की उपचार सामग्री उपलब्ध रखने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया है। आवश्यकता पड़ने पर विलगीकरण कक्ष की सुविधा की जाएगी। आवश्यकतानुसार स्वास्थ्य उपकरण, वेंटिलेशन, मास्क, स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा साधन, औषधि उपलब्ध है। जिन नागरिकों को होम क्वारंटाईन कहा गया है, वे घर पर रहकर ही अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देंगे। वे लोग इधर-उधर न घूमें, ऐसे व्यक्तियों पर प्रशासन ध्यान दे। होम क्वारंटाईन व्यक्ति यहां-वहां घूमते नजर आए तो उसे अस्पताल में भर्ती कर दिया जाएगा, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा।
जीवनावश्यक वस्तुएं मत जुटाओ!
जीवनावश्यक वस्तु जैसे अन्न व दवाएं आदि इकट्ठा मत करो। राज्य में जीवनावश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सही तरीके से हो रही है इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना के भय का फायदा उठाते हुए यदि किसी व्यापारी ने कालाबाजारी की या मास्क व दवा की कीमत अधिक लगाई तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को दिया है।
नागरिकों का मिला अच्छा प्रतिसाद
राज्य सरकार ने भीड़ न करने का आह्वान नागरिकों से किया था, जिसका अच्छा प्रतिसाद मिला है। कल पश्चिम रेलवे में नियमित यात्रा करनेवाले यात्रियों की संख्या में २७ प्रतिशत की कमी आई। इसी प्रकार एसटी बसों में ५१ प्रतिशत और मुंबई मेट्रो में ४० प्रतिशत यात्रियों की संख्या में कमी देखी गई।
थूकनेवालों से वसूले ३० हजार
कोरोना को लेकर लगाए गए प्रतिबंध का यह लाभ हुआ है कि मध्य रेलवे ने दिनभर में रेलवे परिसर में थूकनेवाले १७५ यात्रियों से ३० हजार रुपए का दंड वसूल किया है।