" /> सरकार उठाएगी इलाज का खर्च!, कोरोना पर नीतिश का एलान

सरकार उठाएगी इलाज का खर्च!, कोरोना पर नीतिश का एलान

कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए बिहार सरकार ने इसके लिए जरूरी तैयारियां शुरू कर दी हैं। बिहार विधानसभा में सोमवार को सीएम नीतिश कुमार ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज के लिए राज्य सरकार की तरफ से मदद की घोषणा की। इस दौरान सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष से बीमारी से संक्रमित मरीजों के इलाज का खर्च उठाएगी। इसके अलावा उन्होंने कोरोना से मौत के स्थिति में मृतक के नजदीकी रिश्तेदार को मुआवजा देने की भी घोषणा की। सीएम ने इस परिस्थिति में ४ लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की है।
सीएम नीतीश ने कहा कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति समय से हॉस्पिटल पहुंचे ताकि उसका सही तरीके से इलाज हो सके। इसके साथ ही उन्होंने जानकारी दी की प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में आइसोलेशन सुविधा को विकसित किया जा रहा है। सीएम ने कोरोना के खतरों से निपटने के लिए सतर्क और तैयार रहने की जरूरत बताई। बता दें कि बिहार में कोरोना को लेकर प्रदेश सरकार सावधानी बरत रही है। इसके लिए कई घोषणाएं भी की गई हैं। साथ ही हेल्थ डिपार्टमेंट के अधिकारियों को जरूरी निर्देश भी लगातार दिए जा रहे हैं। कोरोना के अलर्ट के बीच प्रदेश के पांच जिलों में धारा १४४ भी लागू है। इन जिलों में सीवान, गोपालगंज, वैशाली, बक्सर और अरवल का नाम शामिल है। इसके साथ ही अब एक जगह पर चार से अधिक लोगों के रहने पर भी पाबंदी लगा दी गई है। इस आदेश को सख्ती से पालन कराने के लिए एसडीओ को विशेष निगरानी बरतने का भी निर्देश दिया गया है। बता दें कि बिहार सरकार ने समीक्षा करने के बाद सूबे के सभी स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय सहित शिक्षण संस्थानों को भी ३१ मार्च तक बंद रखने का आदेश जारी किया है। इस दौरान प्रदेश में किसी तरह के कार्यक्रम पर भी रोक लगाई गई है।
पटना में कोरोना के ४ संदिग्ध भर्ती
पटना। बिहार के पटना मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल में कोरोना के चार संदिग्ध मरीजों को कल भर्ती कराया गया। भर्ती कराए गए संदिग्धों में एक दंपति भी शामिल हैं। इसमें पति अन्य राज्य के वैâडर के आईपीएस अधिकारी हैं, वहीं पत्नी पटना के ही एक मेडिकल कॉलेज में सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर हैं। दोनों इटली से कल पटना लौटे हैं। एयरपोर्ट पर इनमें कोरोना वायरस के लक्षण दिखने के बाद इन्हें पीएमसीएच भेजा गया। यहां आइसोलेशन वार्ड में रखकर उनका इलाज किया जा रहा है। इसके अलावा पटना के इसी अस्पताल में कोरोना के दो और अन्य संदिग्ध मरीज आए हैं।
रेरा ने सुनवाई टाली
बिहार के रियल एस्टेट रेगुलरटी एथॉरिटी (रेरा) ने अपनी सभी सुनवाइयों को ३१ मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया। इसकी जानकारी रेरा के अध्यक्ष अफजल अमानुल्‍लाह ने दी। उन्होंने बताया कि सावधानी बरतते हुए इस तरह का निर्णय लिया गया है। रेरा से संबंधित कोई भी जानकारी फोन द्वारा दी जा सकती है।

ये भी पढ़ें…गांववालों को फ्री में बांटा ५ हजार मुर्गे