" /> साधुओं के हत्यारे को कोरोना का डंक

साधुओं के हत्यारे को कोरोना का डंक

पालघर में दो साधुओं समेत तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या करनेवाले एक आरोपी को कोरोना का डंक लगा है। साधुओं की हत्या के एक आरोपी में अब कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इसके बाद इलाज के लिए उसे अस्पताल में भर्ती करवाया है। बता दें कि आरोपी पुलिस कस्टडी में था। इसके बाद उनके संपर्क में आनेवाले 43 लोगों की जांच की चल रही है, जिनमें 23 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।
पालघर ग्रामीण अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. दिनकर गावित ने बताया कि पालघर लिंचिंग केस में 55 साल का एक आरोपी पॉजिटिव पाया गया है। आरोपी को 17 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था, जिसे वाडा पुलिस थाने के लॉकअप में बंद किया गया था। संक्रमित डहाणू में दिव्य-वाकीपाड़ा का रहनेवाला है। संक्रमित होने के बाद अब इसकी ट्रेवल हिस्ट्री खंगाली जा रही है और परिवार को भी होम क्वारंटाइन किया गया है।
कोरोना संक्रमित आरोपी को डहाणू कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट अन्य 114 आरोपियों के साथ 14 मई तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया था। अन्य सभी आरोपियों को वाडा, डहाणू, कासा, विक्रमगढ़, तलासरी और अन्य पुलिस थानों के लॉकअप में रखा गया है, ताकि कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण भीड़-भाड़ से बचा जा सके। डॉ. गावित ने कहा कहा कि 28 अप्रैल की सुबह आरोपी के गले का स्वाब टेस्ट लिया गया, जिसमें वह नेगेटिव पाया गया। परंतु शनिवार सुबह एक और टेस्ट किया गया और इसमें वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया। उसे आरएच में भर्ती कराया गया था, मगर उच्च अधिकारियों से अनुमति लेने के बाद आरोपी मरीज को मुंबई के जे.जे. अस्पताल के जेल वार्ड में स्थानांतरित किया जा रहा है। पालघर जिले में अब तक 176 कोरोना के मामले सामने आए हैं और 10 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं इस कोविड-19 से 63 लोग उबर भी चुके हैं। यह घटना 16 अप्रैल को हुई थी, जब दो साधु एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार में शामिल होने कार से मुंबई से सूरत जा रहे थे। भीड़ ने उनकी कार को रोका और बच्चा चोर होने के संदेह में तीनों को पीट-पीटकर मार डाला।