सालेम सलामत है-पुर्तगाली मुहर

१९९३ के मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट मामले में तलोजा जेल में बंद कभी माफिया डॉन रहा और अब कैदी अबु सालेम सजा से बचने और जेल से निकलने के लिए आए दिन नए-नए हथकंडे अपनाता रहता है। पुर्तगाल कोर्ट ने सालेम के प्रत्यर्पण की मंजूरी इस शर्त पर दी थी कि उसे हिंदुस्थान में मौत की सजा नहीं दी जाएगी। उसने पुर्तगाल सरकार को भी चिट्ठी भेज दी थी कि उसके साथ यहां बुरा बतार्व हो रहा है। इसी सिलसिले में पुर्तगाली अधिकारियों की एक टीम उसके आरोपों की जांच करने तलोजा जेल गई थी। अपनी जांच के बाद इन पुर्तगाली अधिकारियों ने सालेम की सलामती पर मुहर लगा दी है।
इससे पहले वर्ष २०१७ में सालेम ने यूरोपियन कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स में याचिका दाखिल करके अपने पुर्तगाल वापसी की मांग की थी। उसने हिंदुस्थान में अपनी मौजूदगी और ट्रायल, दोनों को ही गैरकानूनी ठहराया था। सालेम द्वारा हाल के दिनों में किए गए ऐसे ही प्रयासों के तहत पुर्तगाली दूतावास के २ अधिकारी कल उसका हालचाल जानने के लिए तलोजा जेल पहुंचे लेकिन वहां सालेम और तलोजा जेल के अधिकारियों से चर्चा के बाद पुर्तगाली दूतावास के अधिकारियों ने यह निष्कर्ष निकाला कि सालेम पूरी तरह ठीक है। बताया जाता है कि पुर्तगाली दूतावास के अधिकारियों के सामने सालेम जेल में उसे हो रही तकलीफों के बारे में बोलने से ज्यादा उसके कुकर्मों के लिए कोर्ट द्वारा दी जा रही सख्त सजा का रोना रो रहा था।