सावधान: गली नंबर-४ में भूत है!

दिल्ली के बुराड़ी स्थित संत नगर की गली नंबर-४ जिसमें ११ लोगों के मरने की घटना घटी है, वह गली घटना के बाद से बिल्कुल शांत है। शाम ढलते ही परिंदों की भी वहां से आवाजें नहीं आती। पांच बजे के बाद ही लोग अपने दरवाजे बंद कर घरों में दुबक जाते हैं। गली में सिर्फ पुलिसकर्मी और मीडियावाले ही दिखाई देते हैं। उनके जाने के बाद गली में सन्नाटा पसर जाता है। वहां सालों से रहनेवाले किराएदारों ने डर के कारण मकान खाली करने शुरू कर दिए हैं। गली नंबर चार को लोगों ने भूतवाली गली कहना शुरू कर दिया है। पूरा इलाका डर से सहमा हुआ है।
पुलिस ने मौतकांड के मामले में प्रारंभिक रिपोर्ट शुक्रवार को गृह मंत्रालय को सौंप दी। रिपोर्ट में क्राइम ब्रांच ने साफ कर दिया है कि इस सामूहिक आत्महत्या के लिए परिजनों को किसी बाहरी व्यक्ति ने मजबूर नहीं किया और यह पूरा कांड परिवार के सदस्यों द्वारा खुद ही रचा गया था, जिसकी पुष्टि घर से मिले कुछ दस्तावेजों से की है। पुलिस ने किसी की नहीं सुनी सिर्फ अपनी रची कहानी को प्राथमिकता दी है जबकि सदस्य चीख-चीखकर कह रहे हैं कि उनके परिजनों की हत्या हुई है लेकिन पुलिस तंत्र-मंत्र विधा को लेकर ही अपनी कहानी गढ़ रही है। इलाके के लोगों की दलीलें भी पुलिस नहीं सुन रही। ऐसा प्रतीत होता है कि पुलिस इस केस को लेकर बहुत जल्दबाजी में है। तंत्र-मंत्र का नाम देकर केस को बहुत जल्द रफा-दफा करना चाहती है।
गौरतलब है कि अगर यह घटना किसी पेशेवर ने की है और उसका मनगढ़ंत तंत्र-मंत्र का प्रयोग सफल हुआ तो इस तरह की घटनाओं में आगे भी इजाफा होगा क्योंकि पुलिस उन घटनाओं को भी तंत्र-मंत्र से जोड़कर रफा-दफा कर देगी।