सितंबर से दौड़ेगी नई मुंबई में मेट्रो

नई मुंबई शहरवासियों को इंतजार है मेट्रो रेल का। कछुए की गति से किए जा रहे मेट्रो रेल के काम को चार वर्ष बीत गए। काफी अड़चनों को दूर कर सिडको ने अब काम को तेज गति से आखिरी पड़ाव पर पहुंचा दिया है। सिडको का कहना है कि प्रथम चरण में किए जा रहे मेट्रो के कार्य लगभग ९५ प्रतिशत पूर्ण हो गए हैं, जिससे अब ६ माह के बाद मेट्रो का ट्रायल किए जाने की संभावना व्यक्त होने लगी है। बेलापुर से पेंधार तक ग्यारह किलो मीटर चलनेवाली मेट्रो रेल सेवा आगामी विधानसभा चुनाव के पहले शुरू किए जाने की पूरी कोशिश की जा रही है। मेट्रो रेल का यह मार्ग पेंधार से तलोजा एमआईडीसी तक बढ़ाने का निर्णय एक वर्ष पूर्व सिडको तथा एमआईडीसी महामंडल ने लिया है, ऐसा होने पर तलोजा एमआईडीसी के मजदूर एवं उद्योगपतियों को यातायात का सुगम तथा अच्छा फायदा होगा। ज्ञात हो कि ६ वर्ष पहले सिडको ने बेलापुर से पेंधार तक मेट्रो रेलवे मार्ग के काम का शुभारंभ किया। सिडको द्वारा दक्षिण नई मुंबई में पांच मेट्रो मार्ग का प्लान तैयार किया गया। टेंडर प्रक्रिया अपनाते हुए सिडको ने बेलापुर से पेंधार तक मेट्रो रेलवे कार्य के प्रथम चरण की शुरुआत की। कुल २६ किलोमीटर दूरी वाले मेट्रो रेलवे मार्ग के निर्माण कार्य में ८ हजार ८८७ करोड़ रुपए की लागत लगने की बात बताते हुए इस मार्ग को खांदेश्वर होते हुए नई मुंबई एयरपोर्ट से जोड़ने की तैयारी है। दिल्ली मेट्रो कॉर्पोरेशन की देखरेख में मेट्रो के काम किए जा रहे हैं। तलोजा रेलवे मार्ग पर बनाए जानेवाले उड़ान पुल को सायन-पनवेल मार्ग के उड़ान पुल से जोड़े गए हैं। बेलापुर से पेंधार तक मेट्रो रेलवे स्टेशनों में कुल ग्यारह रेलवे स्टेशन बनाए जा रहे हैं। हालांकि अभी तक कई स्टेशनों के कार्य अधूरे हैं। रेलवे सिंग्नल, बिजली की आपूर्ति, युद्ध स्तर पर किए जा रहे हैं। उक्त प्रकल्प में लगनेवाले रेक्स, चीन रेक्स देश से मंगाए गए हैं।