सुप्रीमकोर्ट के आदेश का अयोध्या में स्वागत

अयोध्या राममंदिर मामले पर सर्बोच्च न्यायालय के द्वारा 25 जुलाई से प्रतिदिन सुनवाई होने के आदेश का हिन्दू-मुस्लिम पक्षकारों ने स्वागत किया है। श्रीरामजन्मभूमि स्थान पर विराजमान भगवान रामलाल के मुख्य पुजारी आचार्य सतेंद्र ने सर्बोच्च न्यायालय द्वारा श्रीराम मंदिर प्रकरण की सुनवाई 25 जुलाई से प्रतिदिन होने का  किया है ।अचार्य सत्येंद्र दास ने कहा है कि  26 वर्षों से राम लला त्रिपाल में हैं आशा है सर्बोच्च न्यायालय जल्दी फैसला करेगी जिससे राम लला टाट पट्टी से निकल कर भब्य दिब्य राम मंदिर में विराजमान हो जाएँ। ऐसा होने से सभी राम भक्तों की इच्छा जल्द पूरी हो जाएगी।बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो आज कहा है ठीक कहा है। मध्यस्थता पैनल को कोर्ट ने ही बनाया था फैसला चाहे कोर्ट करे या पैनल दोनो में जज है। उन्होंने कहा कि अब डे बाई डे सुनवाई होगी इससे फैसला जल्द आयेगा। मामला लम्बे समय से लंबित है बस इसमे राजनीति न हो। हिन्दू पक्षकार महन्थ धर्म दास का कहना है पूरा देश चाहता है कि श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर जल्द से जल्द बन कर तैयार हो। उन्होंने दावा किया कि मुस्लिम भी तैयार है, पर कुछ लोग नही चाहते की राम मंदिर बने। उन्होंने कुछ नेताओं पर आरोप लगाया कि वे नही चाहते कि राम राम मंदिर जल्द बने। केवल इसके नाम पर चन्दा वसूली होती रहे और उनकी दुकान चलती रहे। उन्हें पूरा भरोसा है डे बाई डे सुनवाई होने से जल्द राम मंदिर जल्द बनेगा। उन्होंने इकबाल अंसारी की तरफ इशारा करते हुवे कहा कि उनके साथ मुस्लिम पक्षकार भी साथ दे रहे हैं।