" /> सुरंग से घुसपैठ, ड्रोन से हो रही है हथियारों की सप्लाई

सुरंग से घुसपैठ, ड्रोन से हो रही है हथियारों की सप्लाई

पाक सेना के नए तरीकों से परेशान हुई सेना और बीएसएफ, कश्मीर में हथियारों की कमी

कश्मीर में आतंकियों को पेश आ रही हथियारों की कमी को दूर करने की खातिर अब पाक सेना ड्रोन का सहारा ले रही है। उस पार से ऐसे भी गोला-बारूद को फेंक इस कमी को दूर करने की कोशिश की जा रही है। सुरंगों से भी हथियार पहुंचाने के प्रयास हो रहे हैं। ऐसे कई प्रयासों को नाकाम बना दिया गया है। आज भी अखनूर पुलिस पार्टी और सेना की संयुक्त टीम ने मिलकर नयवाला खाद के सीमावर्ती इलाकों में ड्रोन की मदद से गिराए गए कई पैकट जब्त किए हैं। इन पैकेटों से पुलिस ने दो एके-47 असॉल्ट राइफल, तीन एके मैगजीन, एके 7.62 एम्यूनिशन के 90 राउंड और एक स्टार पिस्तौल बरामद किया है।

यह सच है कि जम्मू-कश्मीर में आतंक की आग को भड़काकर रखने के लिए पड़ोसी देश पाकिस्तान कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा। सीमा पार से लगातार हथियारों को ड्रोन की मदद से पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में भेज रहा हैं। हाल ही में ड्रोन से हथियार भेजने की घटनाओं में तेजी आई है।

अधिकारी कहते थे कि भारत पाकिस्तान से लगती एलओसी और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा बलों की चौकसी के चलते आईएसएआई को आतंकियों तक हथियार पहुंचाना कठिन हो गया है। आतंकी गुटों के पास हथियारों की भारी किल्लत है। जिस कारण से इन गुटों तक हथियार पहुंचाने के लिए पाकिस्तान ड्रोन का प्रयोग कर रहा है। आईएसआई एजेंट जम्मू-कश्मीर में सक्रिय अपने ओवरग्राउंड वर्कर्स की मदद से एलओसी और आईबी पर फेंके गए हथियारों को आतंकियों तक पहुंचाने का जिम्मा सौंप चुकी है।

मंगलवार सुबह तड़के पाकिस्तान से लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा के अखनूर सेक्टर में पाक रेंजरों ने ड्रोन से हथियार भेजे। अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवानों ने ड्रोन की गतिविधि को देखा और इलाके में तलाशी अभियान चलाया। तलाशी के दौरान अखनूर के सोहल गांव में पुलिस ने हथियारों को जखीरा बरामद किया। बरामद हथियारों में दो एके 56 राइफल, दो पिस्तौल और इन घातक हथियारों के साथ चलाने के लिए मैगजीन और राउंड भी भेज गए थे। अखनूर सेक्टर में हथियार मिलने की सूचना मिलते ही पुलिस, सेना की 9 पैरा और बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के वरिष्ठ अधिकारी तुरंत मौके पर पहुंच गए। हथियारों को फिलहाल अखनूर पुलिस ने जब्त कर लिया है।

एके 47 राइफल तीन मैगजीन, एक चीन में बनी पिस्तौल उसके दो मैगजीन बरामद हुए। पुलिस अब उन लोगों का पता लगाने में जुट गई है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने यह हथियार किसके लिए भेजे थे। अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सर्वलांस को बढ़ा दिया गया है। सीमा के आस-पास के क्षेत्रों में सक्रिय आतंकियों के मददगारों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

पाकिस्तान ने 19 सितंबर को जम्मू संभाग के राजौरी इलाके में ड्रोन के जरिए हथियार और भारतीय रुपए गिराए थे। हथियार और पैसे उठानेवाले लश्कर के तीन आतंकियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया गया था। पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ की जा रही है। इससे पूर्व 20 जून को पाकिस्तान ने कठुआ जिला के पनसर पोस्ट पर ड्रोन की मदद से हथियार भेजे थे लेकिन वहां तैनात सतर्क बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के जवानों ने पाकिस्तान ड्रोन को गिरा।