" /> सेना की धरोहर बनेंगे नवाब रामपुर के हथियार!

सेना की धरोहर बनेंगे नवाब रामपुर के हथियार!

 सेना ने भेजा नवाब के पौत्र को अनुरोध पत्र
 अनुरोध पत्र का जवाब देंगे नवाब के पौत्र नवेद मियां
 शाही खानदान के तोहफों पर हर किसी की नजर

यूपी में रामपुर शाही खानदान के पास मौजूद नायाब तोहफों पर हर किसी की नजर है। संपत्ति बंटवारे के बाद लगातार आलीशान शस्त्रों का जखीरा सामने आने के बाद हर कोई इनके बारे में जानने को उत्सुक है। इन शस्त्रों पर पूरे देश के साथ-साथ हिंदुस्थानी सेना की भी नजर है। सेना ने रामपुर रियासत के इन हथियारों के संरक्षण की इच्छा जाहिर की है।
उत्तर भारतीय एरिया मुख्यालय के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल एन. एस. राजा सुब्रमणि ने रामपुर रियासत के अंतिम शासक नवाब रजा अली खां के पौत्र पूर्व मंत्री नवाब काजिम अली खां उर्फ नवेद मियां को इस बारे में अनुरोध पत्र भी भेजा है। पूर्व मंत्री के पीआरओ काशिफ खां ने पत्र मिलने की पुष्टि करते हुए बताया कि २८ फरवरी को उत्तर भारतीय एरिया मुख्यालय के जनरल ऑफिसर कमांडिंग का अनुरोध पत्र नूरमहल रामपुर पहुंचा है। पूर्व मंत्री सेना को इसका जवाब जल्द भेजेंगे। जनरल राजा सुब्रमणि ने रामपुर के पूर्व मंत्री नवाब काजिम अली खां को पत्र भेजा है। पत्र में उन्होंने २० फरवरी को मुख्यालय के ब्रिगेडियर एम.एस. जोधा के साथ हुई मुलाकात का जिक्र करते हुए कहा है कि हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय के पैâसले के परिणामस्वरूप शाही परिवार के सदस्यों के बीच निजी संपत्तियों के विभाजन में बड़ी संख्या में दुर्लभ एंटीक बंदूकें, पिस्तौल, तलवार, चाकू और अन्य शस्त्र मिले हैं। उन्होंने कहा कि सदियों पहले के ये दुर्लभ हथियार सशस्त्र बलों के लिए खास साबित होंगे। मेरा मानना है कि संग्रहालय और सेना के स्थानों पर प्रदर्शित होने ये धरोहरें अच्छे से संरक्षित होंगी। अनुरोध है कि कुछ शस्त्र सेना को उपहार के तौर पर देने पर विचार करें।