" /> सोच-समझकर खिलाना पक्षियों को दाना, दाना देनेवालों पर होगी कार्रवाई

सोच-समझकर खिलाना पक्षियों को दाना, दाना देनेवालों पर होगी कार्रवाई

अंबरनाथ-पूर्व व पश्चिम के वाहनचालकों के लिए बनाए गए रेलवे उड़ान पुल पर काफी लोग पुण्य की चाह में सुबह के समय पक्षियों को सेव, बूंदी अन्य तले हुए खाद्य पदार्थ के साथ ही पानी रखते हैं। लोगों के इस कार्य से एक तरफ जहां पर पक्षी ऐसे खाने की चीजों से बीमार होकर मर रहे हैं, वहीं पर गंदगी भी करते हैं। इससे अंबरनाथ के शिवसेतु के नाम से मशहूर इस पुल के नीचे गुजरनेवाली ट्रेनों के यात्रियों को भी दिक्कत होती है। अत: अंबरनाथ नपा के स्वास्थ्य विभाग ने पक्षियों को खाना-पानी देनेवाले लोगों पर दंडात्मक कार्रवाई के लिए टीम बनाई है। यह टीम पक्षियों को खाना-पानी देनेवाले लोगों से दंड वसूली शुरू की है।
अंबरनाथ के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सुरेश पाटील ने बताया कि अंबरनाथ के रेलवे उड़ान पुल पर कुछ लोग पानी व खाना पक्षियों को देते हैं। तले हुए खाद्य पदार्थ देने से पक्षियों का स्वास्थ्य खराब हो जाता है। बीमार होकर पक्षी, जिसमें चिड़िया, कौआ, कबूतर अन्य की प्रजाति ही खत्म हो रही हैं, वहीं दूसरी तरफ नीचे से रेलवे यात्री यात्रा करते है। उन पर पानी, दाना गिरने से ध्यान बंटकर दुर्घटना का खतरा बढ़ जाता है। लोग कागज, दोने, पत्तल ऐसे ही छोड़कर चल देते है, इससे गंदगी पैâलती है। पंक्षियों को खाना-पानी देनेवाले लोगों को गठित टीम पहले प्रेम से समझाती है। नहीं माननेवालों पर दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है। अब तक १२ लोगों से २०० रुपए प्रति व्यक्ति दंड वसूला गया है। शहर में कचरा करने, प्लास्टिक बंदी के तहत २२ लाख रुपए की दंडात्मक वसूली की गई है। सुरेश पाटील ने बताया कि वे फिर से लोगों को आगाह कर रहे हैं कि पक्षियों को दाना-पानी सुरक्षित जगह पर दें। साथ ही इस बात की तरफ ध्यान रखें कि गंदगी न हो अन्यथा उनसे २०० रुपए बतौर दंड वसूला जाएगा। लोगों को पता होना चाहिए कि पक्षी अपना भोजन खुद खोजकर खाता है।