" /> सोनभद्र नरसंहार की बरसी पर उम्भा गांव जा रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने रोका

सोनभद्र नरसंहार की बरसी पर उम्भा गांव जा रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने रोका

16 जुलाई 2019 को सोनभद्र जिले के घोरावल कोतवाली क्षेत्र के ग्राम पंचायत मूर्तिया के उम्भा गांव में 90 बीघा जमीन के विवाद में गुर्जर और गोंड विरादरी के बीच हुए खूनी संघर्ष में एक ही पक्ष के 10 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 25 लोग घायल हुए थे।

इस नरसंहार की बरसी पर उम्भा गांव जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को जहां गोपीगंज में भदोही पुलिस ने रोक दिया तो वाराणसी के पूर्व सांसद डॉ राजेश मिश्रा, पूर्व विधायक अजय राय और कांग्रेस पदाधिकारियों को मिर्ज़ापुर के बार्डर पर स्थित अदलहाट पुलिस ने फत्तेपुर टोल पर रोक दिया है।
पुलिस द्वारा रोके जाने पर कांग्रेसजन पर सड़क पर बैठकर धरना देने लगे और उम्भा गाँव जाने देने की मांग करने लगे। लेकिन पुलिस की सख्ती के आगे उनकी एक न चली और उन्हें वापस वाराणसी लौटना पड़ा।

ज्ञात हो कि पिछले वर्ष 17 जुलाई 2019 को इसी नरसंहार से पीड़ितों से मिलने जा रही कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को भी रोका गया था और चुनार गेस्ट हॉउस में उनकी पीड़ितों से मुलाक़ात करवाई गयी थी। बता दें कि 16 जुलाई को 32 ट्रैक्टर-ट्रालियों में भरकर प्रधान समेत करीब 300 लोग जमीन पर कब्जा करने पहुंचे थे, और नरसंहार में 10 लोगों की मौत हुई थी, और 25 लोग ज़ख्मी हुए थे।