" /> स्टेशनों पर यात्रियों का तापमान जांचेगा ‘इंफ्रारेड कैमरा’

स्टेशनों पर यात्रियों का तापमान जांचेगा ‘इंफ्रारेड कैमरा’

देश में महत्वपूर्ण मार्गों पर भारतीय रेल द्वारा यात्री ट्रेन सेवाओं को आंशिक रूप से दोबारा शुरू किया गया है। ऐसे में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं। कोविड-19 के लक्षणों को प्रभावी ढंग से स्कैन करने के लिए मध्य रेल ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस और लोकमान्य तिलक टर्मिनस में एक स्क्रीनिंग सुविधा ‘फेब्री ऑय’ स्थापित की है। इससे ट्रेन यात्रियों के कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार से बचने के लिए संपर्क रहित प्रवेश सुनिश्चित होगा।
मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शिवाजी सुतार ने बताया कि ‘फेब्री ऑय’ थर्मल कैमरा विशाल क्षेत्र को कवर कर एक बार में एक साथ कई लोगों के तापमान का पता लगा सकता है और चलते हुए लोगों का स्वचालित रूप से तापमान रिकॉर्ड कर सकता है। वर्तमान में सीएसएमटी और एलटीटी पर मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में सवार सभी यात्रियों को बोर्डिंग के लिए प्लेटफॉर्म के अंदर जाने से पहले उच्च तापमान के लिए प्रवेश पाइंट पर फेब्री ऑय द्वारा स्कैन किया जा रहा है। इन दो प्रमुख स्टेशनों पर ड्यूटी के लिए आनेवाले सभी रेलवे कर्मचारियों और अधिकारियों को भी इस आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस आधारित कैमरे के माध्यम से स्कैन किया जा रहा है।
बता दें कि ‘फेब्री ऑय’ वास्तविक समय और स्वचालित, गैर-घुसपैठ निगरानी के लिए एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित थर्मल स्क्रीनिंग प्रणाली है। इससे यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि कौन से व्यक्ति को तेज बुखार है। ‘फेब्री ऑय’ ब्लैक बॉडी से लैस है, जो एक निरंतर तापमान स्रोत है और 0.3 डिग्री सेल्सियस (+/-) तक की तापमान रीडिंग में सटीकता सुनिश्चित करता है। फेब्री ऑय गर्मी सेंसर का उपयोग करता है जो एक व्यक्ति के शरीर द्वारा उत्पन्न गर्मी को रिकॉर्ड कर सकता है, जो कि अलग-अलग तापमान स्तर के साथ 2डी छवि बना सकता है। जब यात्री कैमरों से होकर गुजरते हैं, तब सेट रेंज के ऊपर तापमान वाले किसी भी व्यक्ति को कैमरों से जुड़ी कंप्यूटर स्क्रीन पर बाकी हिस्सों की तुलना में एक अलग रंग पैटर्न में दिखाया जाता है।

विशेषताएं:
उपाय माथे का तापमान,
सामाजिक दूरी की निगरानी,
नॉन-कॉन्टैक्ट डिटेक्शन,
डुअल (थर्मल + विजन) कैमरा,
एक्यूरेसी + – ब्लैक बाडी के साथ 0.3 सी,
सुविधाजनक तैनाती,
हाई थ्रूपुट,
रीयल टाइम अलर्ट