सड़क हादसों में ३ साल में सा़ढ़े ४ लाख लोगों की मौत

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के पुलिस विभाग से प्राप्त २०१६ से २०१८ के सड़क दुर्घटनाओं के आंकड़ों से यह बात स्पष्ट हुई है कि पिछले ३ सालों में सड़क हादसों में साढ़े ४ लाख लोगों की मौत हो चुकी है।
मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार वर्ष २०१६ में देश में सड़क दुर्घटनाओं में १,५०,७८५ लोग मारे गए, जिसमें १५,७४६ पैदल यात्री शामिल हैं। वर्ष २०१७ में सड़क दुर्घटनाओं में १,४७,९१३ लोग मारे गए, जिसमें २०,४५७ पैदल यात्री शामिल हैं। साल २०१८ में १,५१,४१७ लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए, जिसमें २२,६५६ पैदल यात्री शामिल हैं। इसी प्रकार पिछले तीन वर्षों में सड़क दुर्घटनाओं में औसतन १९,६२० पैदल यात्री मारे गए।
केंद्र द्वारा राज्यसभा में पेश किए गए आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल जनवरी से सितंबर की तुलना में इस साल सितंबर तक सड़क हादसों में २.२ प्रतिशत की कमी आई है लेकिन इन हादसों में मरनेवालों की संख्या ०.२ प्रतिशत हो गई हैं। सरकार ने माना कि मोटर वाहन कानून को सख्ती के साथ लागू किए जाने के बावजूद देश में सड़क हादसों में जान गंवानेवालों की संख्या में कमी नहीं आई। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया कि पिछले साल जनवरी से सितंबर की तुलना में इस साल सितंबर तक सड़क हादसों में २.२ प्रतिशत की कमी आई है लेकिन इन हादसों में मरनेवालों की संख्या ०.२ प्रतिशत बढ़ गई है।