" /> हत्याओं का प्रदेश बना यूपी!, २४ घंटे में छह लोगों की हत्या

हत्याओं का प्रदेश बना यूपी!, २४ घंटे में छह लोगों की हत्या

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के राज में हत्याओं का प्रदेश बन चुका है। यूपी में २४ घंटों के अंदर छह लोगों की हत्या की खबर सामने आई है। मुजफ्फरनगर में कल मेडिकल व्यापारी को सीने में १० गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। इसी तरह लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्र नेता अमन वाजपेयी की बीती रात ११.३० बजे उसके गृह जनपद लखीमपुर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। जौनपुर में ग्राम प्रधान बसंतलाल की बेखौफ बदमाशों ने उसके क्लीनिक के अंदर घुसकर हत्या की दी। बरेली जिले में हिंदू युवा वाहिनी के जिला उपाध्यक्ष डॉ. संजय सिंह की चाकुओं से गोदकर हत्या की गई। इसी प्रकार प्रयागराज जिले में पति ने पत्नी और बेटे की कुल्हाड़ी से वार कर हत्या कर दी। घटना कोरांव थाना इलाके के बड़ोखर कस्बे की है। आरोपी को पत्नी के चरित्र पर शक था। घटना के बाद से आरोपी फरार है। यूपी में २४ घंटे में छह लोगों की हत्या पर कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाने लगे हैं। लोग सवाल उठा रहे है कि लोगों की सुरक्षा करने में योगी सरकार पूरी तरह से फेल है और अपराधियों के हौसले बुलंद है।
जानकारी के अनुसार मुजफ्फरनगर जिले में बेखौफ बदमाशों ने गुरुवार की रात बेहद नृशंस हत्याकांड को अंजाम दिया। कस्बे के मुख्य बाजार में घर में घुसकर दवा व्यापारी की छाती पर १० गोलियां मारी। ६ बदमाशों ने व्यापारी अनुज कर्णवाल को घेरकर गोलियों से भून डाला। हमलावार तब तक गोली मारते रहे जब तक व्यापारी की मौत नहीं हो गई। इस दुस्साहसिक हत्या करनेवाले हमलावार पूरी तरह बेखौफ थे। इसके बाद आरोपियों ने मुख्य बाजार में भी कई राउंड फायरिंग की। इस दौरान एक व्यापारी की दुकान के काउंटर में भी गोली मारी गई, जिसके बाद व्यापारी आनन-फानन में शटर बंद करके निकल गए। सूचना पर सीओ सोमेंद्र नेगी और इंस्पेक्टर भोपा संजीव कुमार मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके से तीन खोखे बरामद किए हैं, जिनमें से दो नाली में और एक गली में पड़ा मिला। दवा विक्रेता की हत्या से परिवार के सदस्यों में कोहराम मच गया। साथ ही बाजार में फायरिंग के कारण दुकानदारों में दहशत फैल गई है। कस्बा निवासी दवा विक्रेता अनुज कर्णवाल की हत्या के पीछे पुरानी रंजिश अथवा रंगदारी प्रकरण की आशंका जताई जा रही है। एसपी देहात नेपाल सिंह ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर परिजनों से वार्ता की। हत्यारोपियों को चिह्नित करने के लिए पुलिस कस्बे के मुख्य बाजार व आस-पास क्षेत्र में लगे सीसीटीवी वैâमरों की फुटेज खंगाल रही है। इसी तरह लखीमपुर खीरी जिले में गुरुवार की रात में गोला कस्बे में लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। हत्या का आरोप छात्र नेता के सगे चाचा पर लगा है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़कर लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता रहे अमन वाजपेयी भारतीय जनता युवा मोर्चा से जुड़कर स्थानीय राजनीति में सक्रिय हुए थे। लखनऊ में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण अमन इन दिनों अपने घर गोला कस्बे में रहते थे। बताया जाता है कि गुरुवार की देर रात उनका परिवार के लोगों से ही झगड़ा हो गया। इस दौरान मारपीट में अमन के चाचा ने उन्हें गोली मार दी। गोली पेट और छाती के बीच जा लगी। जख्मी हालत में परिजन उनको लेकर गोला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इसी प्रकार जौनपुर जिले में ग्राम प्रधान बसंतलाल की बेखौफ बदमाशों ने उसके क्लीनिक के अंदर घुसकर हत्या की और फरार हो गए। पुलिस फरार आरोपियों की तलाश कर रही है। पुलिस के अनुसार कल बरेली जिले में हिंदू युवा वाहिनी के जिला उपाध्यक्ष डॉ. संजय सिंह की निर्मम हत्या चाकुओं से गोदकर की गई थी। उक्त मामले में भी आरोपी फरार है। इसी प्रकार प्रयागराज जिले में पति ने पत्नी और बेटे की कुल्हाड़ी से वार कर हत्या कर दी। घटना कोरांव थाना इलाके के बड़ोखर कस्बे की है। आरोपी को पत्नी के चरित्र पर शक था। आरोपी पुष्पराज पेशे से ट्रक ड्राइवर है। वह खेत में घर बनाकर रहता था। गुरुवार रात उसका पत्नी से झगड़ा हुआ। इसके बाद उसने पत्नी सुनीता (३२) और दोनों बेटों रतन (१०) व राज (७) पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। इससे तीनों बुरी तरह घायल हो गए। कोरांव थाने की पुलिस के साथ एसपी क्राइम आशुतोष मिश्रा मौके पर पहुंचे। घायलों को पहले नजदीक अस्पताल में ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने छोटे बेटे राज को मृत घोषित कर दिया। सुनीता और बड़े बेटे रतन को स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां कुछ देर बाद सुनीता की भी मौत हो गई।