हाइवे के लुटेरों की महिला सरगना, तीन गिरफ्तार

मुंबई-अमदाबाद हाइवे पर लिफ्ट देकर लूट की वारदात को अंजाम देनेवाले गैंग के तीन लुटेरों को वालिव पुलिस ने गिरफ्तार किया है। हालांकि गैंग की सरगना प्रीति फरार है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार ६ फरवरी को अनिल रामचंद्र विश्वकर्मा मुंबई-अमदाबाद हाइवे स्थित वर्सोवा ब्रिज के पास घर लौटने के लिए वाहन का इंतजार कर रहे थे। इसी बीच उनके सामने एक कार रुकी। आगे बैठी गैंग की सरगना प्रीति ने नालासोपारा तक पहुंचाने का भरोसा देकर उन्हें अपनी कार में बैठा लिया, जहां पहले से ही दो लोग बैठे थे। उनकी कार जब मुंबई-अमदाबाद स्थित मालजीपाड़ा के पास पहुंची, कार में बैठे लुटेरों ने चाकू की नोंक पर विश्वकर्मा से २० हजार रुपए और मोबाइल फोन लूटे और उन्हें मार-पीटकर चलती गाड़ी से सातीवली ब्रिज के पास धकेलकर फरार हो गए। जांच में जुटी पुलिस ने सातीवली में लगाए गए सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपी वारिस अख्तर अंसारी (२३), प्रमोद कड़ेदिन तिवारी (२८), विश्वमोहन उर्फ बबलू बृजमोहन पांडे (३८) को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि गैंग की सरगना प्रीति फरार है। पुलिस को आशंका है कि इन लुटेरों ने मुंबई, ठाणे, पालघर जिले में कई वारदातों को अंजाम दिया होगा, जिसकी जांच चल रही है।
वालिव पुलिस निरीक्षक विलास चौगुले ने बताया कि चार आरोपियों का गैंग है, इस गैंग की सरगना प्रीति नामक एक महिला है। महिला टाटा इंडिका कार की प्रâंट सीट पर बैठती है, जिससे यात्रियों को शक नहीं होता था, इसी का शिकार विश्वकर्मा हो गए। आरोपियों के पास से वारदात में इस्तेमाल की गई कार और ३,८०० रुपए नकद बरामद हुआ है।