" /> हापुस की आवक बढ़ी!, कोरोना से निर्यात पर प्रभाव

हापुस की आवक बढ़ी!, कोरोना से निर्यात पर प्रभाव

वाशी स्थित एपीएमसी फलमंडी में कोकण से हापुस आम की आवक में वृद्धि हुई है लेकिन कोरोना वायरस के कारण आम के निर्यात पर गहरा प्रभाव पड़ा है। व्यापारियों में निराशा व्याप्त है। व्यापारियों द्वारा ग्राहकों से अधिक से अधिक फल खाने की अपील की गई है।
मुंबई कृषि उत्पन्न बाजार समिति के फलमंडी में बड़े पैमाने पर आम की आवक हो रही है। व्यापारियों का कहना है कि २०२० में हापुस आम की आवक बढ़ गई है लेकिन कोरोना वायरस के कारण आम के निर्यात पर बुरा प्रभाव पड़ने से व्यापारी वर्ग निराश है। कोकण के रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग सहित तीन जिलों से ४ हजार आम की पेटी का बाजार में आगमन हुआ है। हापुस थोकमंडी में २ हजार से लेकर ६ हजार रुपए पेटी की दर से आम बेचा जा रहा है। संजय पानसरे ने बताया कि अच्छी क्वालिटी का आम एक पेटी में पांच दर्जन की कीमत ६ से साढ़े छह हजार रुपए में बेचा गया है। जबकि छोटे बॉक्स को दो से ढाई हजार रुपए में बेचा गया है। कोरोना वायरस के प्रकोप ने आम के निर्यात को प्रभावित किया है। साथ ही स्थानीय बाजारों पर भी कोरोना के कारण फलों की बिक्री पर भी बुरा प्रभाव पड़ा है। वहीं कुवैत व कतर जैसे खाड़ी देशों में विमान सेवा रद्द होने से आम के निर्यात पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ने से व्यापारी हतोत्साहित हो गए हैं, इसलिए अब व्यापारी वर्ग उपभोक्ताओं से फल खाने की अपील कर रहे हैं।