" /> हॉलीवुड के सीन चोरी कर चीन करता है प्रोपेगेंडा

हॉलीवुड के सीन चोरी कर चीन करता है प्रोपेगेंडा

अगर लड़ाई छिड़ी तो पता नहीं चीनी सेना का क्या हाल होगा, क्योंकि चीन अपनी सेना के पराक्रम का जो भी वीडियो जारी कर रहा है, वो उसके नहीं हैं, बल्कि हॉलीवुड फिल्मों के चुराए हुए सीन हैं। चीन ने प्रशांत महासागर में स्थित अमेरिकी नेवल बेस गुआम पर हमले का एक प्रोपेगेंडा वीडियो जारी किया है। २ मिनट १५ सेकेंड के इस वीडियो में भी चीन फर्जीवाड़ा करने से बाज नहीं आया। चीनी सेना की प्रचार विंग हॉलीवुड की फिल्मों से प्रभावित जान पड़ती है। पहले की तरह इस बार भी चीनी सेना की फर्जीवाड़ा करने वाली टीम ने २००८ में आई हॉलीवुड की ऑस्कर विजेता फिल्म द हर्ट लॉकर, ट्रांसफॉर्मर्स: रिवेंज ऑफ द फॉलेन और १९९६ की एक्शन-थ्रिलर द रॉक से कई सीन्स चुराए हैं। प्रशांत महासागर में स्थिति अमेरिकी नौसैनिक बेस गुआम पर हमले के नकली वीडियो को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयरफोर्स के वीबो अकाउंट पर शनिवार को अपलोड किया गया था। यह वीडियो किसी हॉलीवुड फिल्म की ट्रेलर की तरह दिखाई दे रहा है। जिसमें चीन का एच-६ बॉम्बर रेगिस्तान में स्थित किसी एयरफोर्स बेस से उड़ान भरता दिखाई दे रहा है।
युद्धाभ्यास के प्रोपेगेंडा वीडियो में चीन पहले भी कई बार ऐसे फर्जीवाड़े कर चुका है। कुछ दिनों पहले चीनी मीडिया ने हॉलीवुड फिल्म टॉपगन के एक सीक्वेंस को अपनी एयरफोर्स के बढ़ती ताकत के रूप में दिखाया था। बाद में बेइज्जती होने के बाद चीन की सरकारी मीडिया ने इस क्लिप को ही हटा दिया था। बड़ी बात यह है कि हॉलीवुड के क्लिप का उपयोग करने के लिए चीन कोई भी रॉयल्टी नहीं देता है।
साउथ चाइना मॉर्निग पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, चीनी सेना का प्रचार विभाग अक्सर अपने फर्जी वीडियो के प्रॉडक्शन को शानदार बनाने के लिए हॉलीवुड के फिल्मों से चोरी करता है। चीनी सेना के लिए ऐसा करना आम बात है। इस विभाग में काम करने वाले चीनी सेना के लगभग सभी अधिकारी हॉलीवुड की फिल्में देखते हुए बड़े हुए हैं। उनके दिमाग में अमेरिकी युद्ध की फिल्मों की छवि सबसे अच्छी है।