" /> हौसले से काम लें!

हौसले से काम लें!

इस दौर में जैसी संवेदनशीलता बैंक और एनबीएफसी से दिखनी चाहिए थी वह नहीं दिखी, एनबीएफसी के एजेंट लोगों के घरों पर मोरेटेरियम का आवेदन देने के बाद भी लोगों की दरवाजे पर सोसाइटी के बाहर जाकर परेशान करते हुए दिखे और इनके कई वीडियो वायरल हुए। इस संवेदनशील दौर में एक बहुत ही दर्दनाक खबर यूपी के महराजगंज जिले से सामने आई जिसमें एक ऑटो चालक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। कारण उसने एक ऑटो लोन पर लिया था। कोरोना बंदी में उसका ऑटो नहीं चल रहा था। ऑनलाइन और इंटरनेट के प्रति जागरूक नहीं होने के कारण वह मोरेटेरियम का ऑनलाइन आवेदन नहीं कर पाया था। अनलॉक होने के बाद कुछ कुछ भाड़ा उसे मिल रहा था लेकिन उससे वह किसी तरह अपना घर चला पा रहा था। किश्त नहीं चुका पा रहा था। फाइनेंस कंपनी ने किश्त न चुका पाने के कारण उसका ऑटो खिंचवा लिया, जिस कारण से उसके ऊपर दोहरी मार पड़ गई। एक घर खर्च चलाने की और दूसरी जो आय कमाने का एक जरिया था, उसे उस फाइनेंस कंपनी ने छीन लिया। यह देश की बहुत ही दर्दनाक तस्वीर है और इस घटना को देश के हुक्मरानों को संज्ञान में लेना चाहिए।

कोरोना का काल है और हालत बेहाल है। सामने यक्ष प्रश्न है कि जीवन पहले या जहान है। यत्र तत्र सर्वत्र से अच्छी खबरें नहीं आ रहीं हैं। ऐसे में एक ही संबल है जो अपने पास है वह है हमारा हौसला जिससे हम इस जंग को जीत सकते हैं। हमें अपनी सोच को बदलना होगा। हालांकि इस दौर में जैसी संवेदनशीलता बैंक और एनबीएफसी से दिखनी चाहिए थी वह नहीं दिखी, एनबीएफसी के एजेंट लोगों के घरों पर मोरेटेरियम का आवेदन देने के बाद भी लोगों की दरवाजे पर सोसाइटी के बाहर जाकर परेशान करते हुए दिखे और इनके कई वीडियो वायरल हुए। इस संवेदनशील दौर में एक बहुत ही दर्दनाक खबर यूपी के महराजगंज जिले से सामने आई जिसमें एक ऑटो चालक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। कारण उसने एक ऑटो लोन पर लिया था। कोरोना बंदी में उसका ऑटो नहीं चल रहा था। ऑनलाइन और इंटरनेट के प्रति जागरूक नहीं होने के कारण वह मोरेटेरियम का ऑनलाइन आवेदन नहीं कर पाया था। अनलॉक होने के बाद कुछ कुछ भाड़ा उसे मिल रहा था लेकिन उससे वह किसी तरह अपना घर चला पा रहा था। किश्त नहीं चुका पा रहा था। फाइनेंस कंपनी ने किश्त न चुका पाने के कारण उसका ऑटो खिंचवा लिया, जिस कारण से उसके ऊपर दोहरी मार पड़ गई। एक घर खर्च चलाने की और दूसरी जो आय कमाने का एक जरिया था, उसे उस फाइनेंस कंपनी ने छीन लिया। यह देश की बहुत ही दर्दनाक तस्वीर है और इस घटना को देश के हुक्मरानों को संज्ञान में लेना चाहिए। लगभग देश के सभी मीडिया संस्थानों ने जिस तरह से मोरेटेरियम योजना का एनबीएफसी कंपनियों ने मजाक उड़ाया है, उसे छापा है लेकिन नोटिफिकेशन निकालने के अलावा जिस तरह से इसपर नियंत्रण नहीं रखा गया, उसने जनता को हैरान और परेशान कर दिया। जिससे जनता का हौसला टूट रहा है। हमें बस इस हौसले को टूटने से रोकना है क्योंकि हमारे या आपके जाने के बाद आपका परिवार वर्तमान से भी घनघोर संकट में चला जाता है और भविष्य में बच्चों की पढ़ाई एवं शादी-ब्याह में या जीवन में आ रही मुश्किलों के लिए मां-बाप का सलाह नहीं मिल पाता है और यदि आप युवा हैं तो आपके मां-बाप को भी आपका सहारा नहीं मिल पाता है। अत: यह समय मजबूत होकर समय से लड़ने का है, इस लड़ाई को हारना नहीं बल्कि हराना है।
हौसले की कमी के कारण कई लोग सामने अवसर होने पर भी उसे पहचान नहीं पाते हैं। ऐसे में हम अपने आसपास भी किसी के लिए जामवंत बनकर इस भूमिका को निभा सकते हैं और खुद भी हौसला रख दूसरे को संबल दे सकते हैं। इस संबंध में मैं एक कहानी आपको सुनाता हूं। एक टेंपो वाला बड़ा निराश था कि उसकी आय नहीं हो रही है और वो घर पर बैठा ग्राहक का इंतजार करता था। जबकि टेंपो उसने लोन पर लिया हुआ था और हर महीने किश्त और घर का खर्च भारी पड़ रहा था। एक दिन उसको परेशानी में देख उसका दोस्त उसके घर आया और पूछा भाई तुम क्यों परेशान हो? उसने कहा कि देखो मेरे पास कोई आय नहीं बची है और मैं परेशान हूं कि कोई भाड़ा मेरे पास नहीं आ रहा है। उस दोस्त ने कहा भाई टेंपो खरीदे हो, वह तुम्हारे पास पड़ी है। इसे घर पर रख कर सोचोगे कि कोई भाड़ा तुम्हारे पास आएगा तो तुम बाहर जाओगे तो ऐसा होने वाला नहीं है। तुम टेंपो लेकर सड़क पर उतरो थोड़ी दूर चलो। जब लोग टेंपो देखेंगे तो लोग हाथ देंगे। तुम्हें इस वाहन को लेकर सड़क पर उतरना पड़ेगा। तुम्हारे ग्राहक रुपी मौके सड़क पर टहल रहे हैं। इसके लिए तुम्हें घर से बाहर निकलना पड़ेगा। घर में ही बैठे रहोगे तो ग्राहक या मौका चल कर नहीं आएगा। तुम्हें खुद चलना पड़ेगा। घर से बाहर निकलना पड़ेगा। तभी मौके की तुमसे मुलाकात होगी। अब वक्त बदल गया है। पुराना वक्त नहीं है कि लोग खुद आते थे। ठीक यही हाल जीवन का है। हमें अपनी जड़ स्थिति से बाहर निकलना पड़ेगा। तभी हम इसी हालत को तोड़ सकते हैं। हमें कुछ करना पड़ेगा। करने का मौका ढूंढना पड़ेगा। हमें अपनी शक्ति अपनी ताकत पहचाननी पड़ेगी और यदि तमाम संभावनाएं आपके अंदर होते हुए आप कमा नहीं पा रहे हैं तो कहीं न कहीं दोष अपनी सोच का भी है, जिसे हमने अपनी बंदिशें बना ली हैं। हमने अपने आपको एक छवि में कैद कर लिया है। इस कोरोना काल में हमें अपनी उन बंदिशों और छवि को तोड़ना पड़ेगा तभी हम जान और जहां दोनों बचा सकते हैं।
पूर्वी उत्तर प्रदेश के एक सफल उद्यमी जापान में हैं गणेश यादव। उन्होंने दसवीं कक्षा तक की पढ़ाई की और बहुत कम उम्र में जापान चले गए। परिवार से बहुत गरीब थे इसलिए बाहर नौकरी करने गए। उन्होंने कम शिक्षा को बाधा नहीं बनने दिया। अपनी मेहनत, हौसले और चतुराई से इनका कारोबार पैâला है। १८ एकड़ में इनके पास निर्माण मशीनरी का कारखाना है। २० से अधिक देशों में माल सप्लाई करते हैं। ५ भारतीय रेस्तरां हैं। जापान में और सब तिरंगे रंग में रंगे हैं। इनसे इस कोरोना काल में एक मैनेजमेंट के छात्र ने एक वेबिनार में पूछा कि आप अपने डिप्रेशन को वैâसे भगाते हैं? इनका जबाब काफी अच्छा था जिससे हमें सीखना चाहिए। उनका कहना था कि जब भी मै तनाव में आता हूं, मैं दुगुना काम करने लगता हूं। दुगुना काम करने से थकान आती है। काम से थकता हूं तो अच्छी नींद भी आ जाती है और दूसरे दिन दिमाग प्रâेश रहता है। काम दुगुना कर दिया तो पैसा भी दुगुना हो गया और जब हाथ में पैसा आता है तो डिप्रेशन ऐसे ही भाग जाता है। अत: यदि मैं डिप्रेशन में घर पर बैठ जाता तो समय का नुकसान होता। तनाव हावी होता और जो पैसा आने वाला था, वो भी नहीं आता तो तनाव दुगुना हो जाता। अत: तनाव दुगुना करने की जगह हमें मेहनत दुगुनी करनी चाहिए। काम और मेहनत से ही हम डिप्रेशन को भगा सकते हैं। यदि आपको लगता है कि आपके पास कोई काम नहीं बचा है या नौकरी से निकाल दिया गया है या उसपर खतरा आ गया है तो भी आप तनाव में न आएं। अपने दोस्तों से और करीबी हितचिंतकों से इस मसले को शेयर करें और जो आपको आता है, उस काम को करने के लिए अपने आपको तैयार रखें। काम कोई छोटा-बड़ा नहीं होता। उसका स्केल छोटा-बड़ा होता है और स्केल बड़ा करने के लिए उसे छोटे स्केल से शुरू करना पड़ता है। धीरूभाई जिन्होंने सबसे बड़ी ऑइल कंपनी की स्थापना की, उन्होंने पेट्रोल पंप बॉय बनकर इस काम को शुरू किया था। वहां से इस यात्रा को शुरू किया है। आप भी ऐसा कर सकते हैं। शुरू करिए कोई भी काम जिसे आप स्केल कर बड़ा कर सकते हैं। देखिए आपका तनाव भाग जाएगा।