" /> ख़त्म हुआ सदियों का इंतजार : पीएम मोदी ने अयोध्या में रखी गई श्रीराममंदिर की नींव, 48 मिनट तक चला भूमिपूजन

ख़त्म हुआ सदियों का इंतजार : पीएम मोदी ने अयोध्या में रखी गई श्रीराममंदिर की नींव, 48 मिनट तक चला भूमिपूजन

बुधवार को ख़त्म हो गया सदियों का इंतजार l पीएम मोदी ने अयोध्या में अभिजीत मुहूर्त में श्रीराममंदिर का भूमिपूजन कर नौ शिलाए रखी , कुल 48 मिनट तक भूमिपूजन चला । पीएम मोदी ने अपने ऐतिहासिक दौरे की शुरूआत हनुमानगढी के दर्शन , आरती व परिक्रमा कर की जिसके बाद उन्होने श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के दर्शन किए और आरती उतारी। इतना ही नही पीएम रामलला के सामने पूरी तरह नतमस्तक हो गए उन्होंने साष्टांग दंडवत कर सबका दिल जीत लिया ।

प्रधानमंत्री मोदी भारतीय पारंपरिक पोशाक हल्के पीले रंग का कुर्ता, सफेद धोती और भगवा रंग के गमझे में थे। काशी के प्रकांड तीन विद्धानों ने भूमि पूजन का अनुष्ठान शुरू किया। पीएम मोदी को यजमान के तौर पर संकल्प दिलाया गया और गणेश पूजन के साथ भूमि पूजन का कार्यक्रम शुरू हो गया।

इस मौके पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयं सेवक प्रमुख मोहन भागवत मौजूद थे। पुरोहितों ने प्रधानमंत्री से विधिवत पूजा अर्चना कराई। इस दौरान चांदी की नौ शिलाओं का पूजन किया गया। करीब 12 बजे शुरू हुआ भूमि पूजन कार्यक्रम करीब 48 मिनट चला। अभिजीत मुहुर्त में भूमि पूजन और शिला पूजन सम्पन्न होने के बाद श्री मोदी ने देश की तरक्की और कोरोना के नाश का वरदान प्रभु श्रीराम से मांगा। भूमि पूजन कार्यक्रम के बाद हर हर महादेव,जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे लगाये गए।
अयोध्या में तय समय के अनुसार प्रधानमंत्री का हेलीकाप्टर साकेत डिग्री कालेज में बने अस्थायी हैलीपेड पर उतरा जहां पहले से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनकी आगवानी के लिये मौजूद थे।

प्रधानमंत्री ने कोरोना संक्रमण के लिये तय गाइडलाइन का पूरा पालन किया। वह मास्क लगाये हुये थे । उनका स्वागत करने वाले दो मीटर की दूरी पर बनाये गये सफेद रंग के गोलों में खड़े थे। पीएम मोदी ने सभी का अभिवादन स्वीकार करते हुये अपने वाहन की ओर रूख किया। बाद में पीएम मोदी का काफिला हनुमानगढ़ी के लिये रवाना हो गए।

पीएम मोदी इससे पहले वर्ष 1991 में आये थे जब उनसे एक पत्रकार ने संयोग से दोबारा आने का समय पूछा था। उस समय उन्होने मुस्करा कर कहा था कि अब अयोध्या तभी आऊंगा जब राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा।

पीएम मोदी रामभक्त हनुमान का दर्शन पूजन कर उनसे भूमि पूजन की अनुमति मांगी। दस मिनट प्रसिद्ध हनुमान गढ़ी में बिताने के बाद वह करीब 12 बजे राम जन्मभूमि परिसर पहुंचे। जहां उन्होंने विधिवत रामलला विराजमान का दर्शन पूजन किया।