२० साल पार, नहीं खत्म हो रहा इंतजार! सड़क के लिए तरस रहे लोग

वसई तालुका के वसई-पूर्व में कामन -बापाने सड़क योजना प्रस्ताव को २० वर्ष पहले स्वीकृति मिलने के बाद भी सड़क का निर्माण नहीं हो पाया। २० वर्ष बीत जाने के बाद भी सड़क नहीं मिलने से नागरिकों में रोष है। यहां के लोग आज भी सड़क के लिए तरस रहे हैं।
वसई-पूर्व में कामन-बापाने क्षेत्र है। इस क्षेत्र में राष्ट्रीय महामार्ग और राज्यमार्ग को जोड़ने के लिए कामन-बापाने सड़क की योजना बनाई गई थी। सड़क को बनाने के लिए २० वर्ष पहले भूमि का सर्वे तथा सड़क योजना में होनेवाले खर्च को सरकार ने मंजूर किया था लेकिन लोकनिर्माण विभाग की लापरवाही के कारण सड़क की शुरुआत ही नहीं हुई।
२००९ में वसई विरार महानगरपालिका की स्थापना के बाद ये सड़क मनपा के अधीन है। कामन-बापाने क्षेत्र के नागरिकों की मांग है कि अब कामन-बापाने सड़क मनपा द्वारा बनाई जाए। नागरिकों ने बताया कि कामन-बापाने क्षेत्र में बरसात के दिनों में सड़क पानी में डूब जाती है। आने-जाने के लिए नागरिकों को पानी, कीचड़ और माटी से गुजरना पड़ता है, जिसके कारण चिंचोटी आने के लिए नागरिकों को लंबी दूरी तय करनी पड़ती है।
संघर्ष समिति के अध्यक्ष केदारनाथ म्हात्रे ने बताया कि कामण-चिंचोटी सड़क योजना पूरी होने पर कामण, पोमण, नागले, शिल्लोत्तर समेत अन्य गांवों में रहनेवाले नागरिकों को नायगांव स्टेशन और शहर से जुड़ने में आसानी होगी, जिसके कारण समय और पैसे की बचत होगी। वसई-विरार महानगरपालिका ने कुछ महीने पहले इस क्षेत्र में डिजिटल सर्वेक्षण किया है लेकिन अब तक सड़क योजना पर किसी प्रकार का काम नहीं किया गया।