" /> ३० मार्च तक स्वीमिंग पूल, सिनेमा बंद!, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की घोषणा

३० मार्च तक स्वीमिंग पूल, सिनेमा बंद!, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की घोषणा

राज्य में कोरोना के प्रभाव को रोकने के लिए मुंबई, नई मुंबई, ठाणे, पुणे, पिंपरी, चिंचवड और नागपुर के सभी सिनेमागृह, स्वीमिंग पूल, नाट्यगृह और जिम को कल आधी रात से बंद करने का एलान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया है। पिंपरी-चिंचवड के सभी स्कूल-कॉलेज आगामी ३० मार्च तक बंद रहेंगे। इस दौरान केवल १०वीं और १२वीं की परीक्षा जारीरहेंगी। पहली से ९वीं कक्षा तक की परीक्षा के लिए बाद में निर्णय लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐपेडेमिक एक्ट के प्रावधानों के अनुसार यह पैâसला लिया गया है। घर की चौखट पर आए कोरोना के संकट को चौखट से ही वापस भेज देंगे, ऐसा विश्वास मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल व्यक्त किया। विधानसभा व विधान परिषद में कोरोना के संबंध में निवेदन करने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि अभी तक कोरोना संक्रमित १७ मरीज मिले हैं, इनमें से मुंबई में ३, ठाणे में १, पुणे में १० और नागपुर में ३ मरीज शामिल हैं। फिलहाल मॉल्स, होटल, रेस्टारेंट को बंद रखने का एलान नहीं किया गया है, लेकिन मुख्यमंत्री ने आम लोगों से मॉल्स में नहीं जाने का अनुरोध किया है। पत्रकारों के सवालों के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि इसे महामारी कहना उचित नहीं है। उन्होंने मीडिया के लोगों से अनुरोध किया है कि वे कोरोना संक्रमित लोगों से बातचीत नहीं करें। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि फिलहाल शादियों का मौसम है लेकिन नागरिक इस बात का ध्यान रखें कि वे भीड़-भाड़ नहीं करें।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल राज्य के प्रमुख ६ शहरों मुंबई, नई मुंबई, ठाणे, पुणे, पिंपरी, चिंचवड और नागपुर में जिम, स्वीमिंग पूल, सिनेमा, नाट्यगृह आदि को कल आधी रात से बंद करने का एलान किया। उन्होंने लोगों से भीड़-भाड़वाली जगहों पर नहीं जाने की अपील की। उन्होंने कहा कि मुंबई में लोकल ट्रेन सेवाओं और बसों को रोकना संभव नहीं है क्योंकि ये आवश्यक सेवाएं हैं। लेकिन उन्होंने आम लोगों से अनावश्यक यात्रा को टालने की अपील की। राज्य में किसी भी धार्मिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि पहले से अनुमति दी गई है तो उसे रद्द किया जाएगा। सभी निजी कंपनियों से आह्वान करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां तक संभव हो, वे कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमति प्रदान करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले ७-८ मार्च से महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमित रोगी मिलने शुरू हुए हैं। संतोषजनक बात ये है कि इनमें रोग की तीव्रता कम है, कुछ रोगियों में तो रोग के लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र की तरफ से जारी अधिसूचना के अनुसार ७ देशों चीन, दक्षिण कोरिया, इटली, प्रâांस, ईरान, जर्मनी और स्पेन से आए यात्रियों के क्वॉरंटाईन (अलग-थलग) के निर्देश दिए गए हैं, लेकिन राज्य में अमेरिका और दुबई से आए यात्रियों में कोरोना के लक्षण मिले हैं, ऐसे में केंद्र सरकार से इन देशों की सूची में ये दो देश शामिल करने का अनुरोध किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने जांच प्रयोगशाला खोलने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। कोरोना की जांच के लिए जो किट लगते हैं, उसे केंद्र सरकार से मंगाए जाते हैं, इसके लिए भी केंद्र सरकार को पत्र लिखा गया है। राज्य सरकार किट का आयात नहीं कर सकती है। उन्होंने जनता से अपील की है कि वे कोरोना से घबराएं नहीं, भीड़-भाड़वाली जगहों से बचें, अनावश्यक यात्रा न करें, हाथ मिलाने की जगह हाथ जोड़कर नमस्कार करें और सतर्कता बरतें, ताकि कोरोना से बचा जा सके।