" /> ६७ लाख यूरो का गोल

६७ लाख यूरो का गोल

कभी-कभी पेनॉल्टी भी ऐसी होती है कि एक गोल लाखों का हो जाता है। अब देखिए न फुटबॉल के मैदान पर पेनॉल्टी से गोल दागने के माहिर कहे जाने वाले दिग्गज ब्राजीली फुटबॉलर नेमार को अब खुद ‘पेनॉल्टी’ झेलनी पड़ेगी। नेमार पर यह पेनॉल्टी स्पेन की एक कोर्ट ने लगाई है, जिसमें नेमार को अपने पिछले क्लब बार्सिलोना को बोनस के तौर पर ६७ लाख यूरो (करीब ५७ करोड़ हिंदुस्थानी रुपए) चुकाने का ‘गोल’ दिया गया है। यह पेनॉल्टी बार्सिलोना और नेमार के बीच चल रहे बोनस के मुकदमे में उन्हें हार मिलने के कारण चुकानी होगी। दरअसल नेमार ने २०१७ में अचानक बार्सिलोना का साथ छोड़ दिया था। वे २२.३ करोड़ यूरो (करीब १७५३ करोड़ रुपए) की रिकॉर्ड डील के साथ पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) क्लब में शामिल हो गए थे। इसे फुटबॉल इतिहास की सबसे बड़ी ट्रांसफर डील माना जाता है। तब वह दुनिया के सबसे महंगे फुटबॉलर बन गए थे। पीएसजी से जुड़ने के बाद नेमार ने ४३.६ मिलियन यूरो के लॉयल्टी बोनस के भुगतान के लिए बार्सिलोना पर मुकदमा किया था। नेमार ने मुकदमे में कहा था कि वे बार्सिलोना से २०१६ में जुड़े थे। क्लब ने तब उन्हें ६४ मिलियन यूरो (करीब ५४६ करोड़ रुपए) बोनस के रूप में देने का कांट्रेक्ट किया था। नेमार के मुकदमे के जवाब में बार्का ने भी नेमार पर कांट्रेक्ट तोड़ने का दावा करते हुए जवाबी मुकदमा कर दिया था, बार्सिलोना की तरफ से किए गए मुकदमे में ही अब अदालत ने फैसला सुनाया है।