" /> 34 हुई भिवंडी में कोरोना मरीजों की संख्या

34 हुई भिवंडी में कोरोना मरीजों की संख्या

भिवंडी शहर में एक 25 वर्षीय महिला में कोरोना पाॅजिटिव पाया गया है, जिसके कारण शहरी क्षेत्र में मरीजों की संख्या 21 हो गई है। ग्रामीण परिसर में भी 13 मरीज पाए जाने से यह आंकड़ा 34 पर पहुंच चुका है। भिवंडी के वंजारपट्टी नाका स्थित निवासी इमारत में शुक्रवार को एक 25 वर्षीय महिला की रिपोर्ट कोरोना पाॅजिटिव पाई गई है। महिला एक मई को मुंबई के कुर्ला इलाके के कालीना से भिवंडी आई थी। महिला कोरंटाइन किया गया था और उसका ब्लड सेंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया था। रिपोर्ट कोरोना पाॅजिटिव पाई गई है। इस मरीज के साथ ही शहर में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 21 हो गई है जबकि अभी तक तीन कोरोना पाॅजिटिव मरीज उपचार के दौरान ठीक होकर अपने-अपने घरों में रह रहे हैं। शहरी भाग में अब कुल 19 कोरोना पाॅजिटिव मरीज हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है।
कोरोना मरीजो की संख्या इस प्रकार है-
भिवंडी शहर में अब जैतूनपुरा बंगालपुरा में 01, बेताल पाड़ा 04, मानसरोवर 01, घूंघट नगर 02, तांडेल मोहल्ला 03, मुमताज नगर 01, कामतघर 04, शांतिनगर 01, आजमी नगर 01, फलेनगर 01, भादवड़ 01, वंजारपट्टी नाका 01 कुल 21 कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा है, वही पर भिवंडी ग्रामीण परिसर में पडघा बोरीवली 01, कशेली 05, कोन गांव 02, चरणीपाड़ा रहनाल 02 , काल्हेर 03 कुल 13 कोरोना संक्रमित मरीज हैं। भिवंडी शहर तथा ग्रामीण परिसर मिलाकर यह आंकड़ा 34 पर पहुंच चुका है।
30 का उपचार शुरू, 314 लोग कोरंटाइन-
कोरोना पाॅजिटिव 4 मरीज उपचार के दौरान ठीक होकर अपने-अपने घरों पर आ गए हैं, जिसमें जैतूनपुरा-बंगालपुरा के रहनेवाले 65 वर्षीय व्यक्ति, बेतालपाड़ा 50 वर्षीय, अवचित पाड़ा 23 वर्षीय तथा भिवंडी ग्रामीण के पडघा निवासी 62 वर्षीय महिला का समावेश है। उक्त सभी का उपचार ठाणे के सिविल अस्पताल में चल रहा था। बाकी 30 लोगों का विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है। इधर मनपा के जनसंपर्क अधिकारी मिलिंद पलसुले ने बताया कि टाटा स्थित आमंत्रणा में लगभग 314 लोगों को कोरंटाइन कर रखा है। इसके साथ ही 55 लोगों को होम कोरंटाईन किया गया है, वहीं पर लगभग 700 से 800 लोगों की मुद्दत पूरी होने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया है।
सोशल डिस्टेंसिंग पालना बहुत जरूरी-
जानकरों का मानना है कि इस वैश्विक महामारी को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है। मुंह पर मास्क तथा निरंतर हाथों को सैनिटाइजर करना जरूरी है। लोगों में कम-से-कम तीन फुट का अंतर रखना चाहिए। भीड़भाड़वाले क्षेत्रों में जाने से बचें। थोड़ा भी सर्दी-जुकाम होने पर तुरंत अपने नजदीकी स्वास्थ केंद्र पर जांच करवानी चाहिए। अन्यथा गंभीर खतरा पैदा हो सकता है। बहुत ही जरूरी हो तो घरों के बाहर निकले अन्यथा घरों में ही रहें।