" /> 6 महीनों की मेहनत का फल है नायकू की मौत: आईजी कश्मीर

6 महीनों की मेहनत का फल है नायकू की मौत: आईजी कश्मीर

कश्मीर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार का कहना है कि हिजबुल कमांडर रियाज नायकू की मौत की सफलता का सेहरा यूं ही नहीं बांधा जा सका है, बल्कि इसके लिए 6 महीनों तक अथक मेहनत उनकी कई टीमों को करनी पड़ी थी।

कश्मीर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि सुरक्षाबलों ने जम्मू-कश्मीर में इस साल जनवरी से अब तक आतंकियों के खिलाफ 27 अभियान चलाए। इनमें 64 आतंकवादियों का सफाया किया गया। 25 सक्रिय आतंकवादी गिरफ्तार किए गए। वहीं बेगपोरा एनकाउंटर में मारे गए हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर रियाज नायकू को पुलिस पिछले छह महीने से तलाश रही थी। आतंकी रियाज नायकू का मारा जाना एक तरह से कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन का खात्मा है।

आईजी विजय कुमार ने बताया कि हंदवाड़ा मुठभेड़ में पाकिस्तान का टॉप लश्कर-ए-तैयबा कमांडर हैदर भी मारा गया। आईजी विजय कुमार ने कहा कि तीन बड़े आतंकी एनकाउंटर में मारे गए। टीम 6 महीने से आतंकी नायकू के पीछे लगी थी।

यह सच है कि सेना ने हंदवाड़ा के अपने वीर जवानों की शहादत का तीन दिन बाद बदला लिया। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के बेगपोरा गांव में बुधवार दोपहर तक करीब 12 घंटे चली मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के स्थानीय कमांडर रियाज नायकू मार गिराया गया। सेना ने सुरंग में छिपे नायकू और उसके साथी आतंकी को तकरीबन 40 किलो आईईडी विस्फोट से उड़ा दिया था।

उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस कश्मीर में हमला करने की आतंकवादियों की साजिश को नाकाम करने के लिए आधुनिक उपकरणों का इस्तेमाल कर रही है। पुलिस सेना के साथ कई बड़े आपरेशन में शामिल होती है और आतंकियों पर काल बनकर टूटने से पीछे नहीं हटती है।

आईजी ने बताया कि रियाज नायकू हिजबुल मुजाहिद्दीन का कमांडर था, उसका हम पिछले 6 महीने से पीछा कर रहे थे। उसकी एक-एक चीज को ट्रैक कर रहे थे, हमने उसके कुछ आपरेशन को बर्बाद भी कर दिया था। हमारी टीम ने पहले उसके साथियों को पकड़ा उसकी पूरी जानकारी निकाली और फिर धीरे-धीरे उसके अड्डे पर हमला किया।

विजय कुमार ने बुधवार को हुए एनकाउंटर की कहानी बताते हुए कहा कि जिस घर में रियाज नायकू छुपा था, वहां पहले पुलिस ने घेराबंदी की और उसके बाद आर्मी वहां पर आई। पहले दिन घर में कुछ नहीं मिला था, लेकिन हमें पता था कि वहां वो छुपा है इसलिए अगले दिन फिर एक्शन लिया गया।

रियाज नायकू के एनकाउंटर के बाद बुधवार को सुरक्षाबलों के वाहनों पर हमला किया गया, जिस पर विजय कुमार ने कहा कि 5 अगस्त के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि भीड़ ने पुलिस पर हमला किया है। उन्होंने बताया कि पिछले साल इस हिस्से में हमने 35 आतंकियों को ढेर किया था, इस बार इससे भी ज्यादा को ढेर कर दिया गया है।

रियाज नायकू के अलावा इस बार हैदर को भी मारा गया है, विजय कुमार ने बताया कि हैदर भी पाकिस्तानी आतंकी था और मूसा का राइट हैंड माना जाता था। जम्मू कश्मीर में जिस नए संगठन की बात हो रही है उसको लेकर जम्मू-कश्मीर के आईजी ने कहा कि ये पाकिस्तान की चाल है, जो उसने 5 अगस्त के बाद संगठन का नाम बदला है।