" /> 60 वर्ष की जाए मुंबई पुलिस के जवानों की सेवानिवृत्ति की आयु

60 वर्ष की जाए मुंबई पुलिस के जवानों की सेवानिवृत्ति की आयु

रघुनाथ कुचिक ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

मुंबई पुलिस हमेशा से ही अपने काम का लोहा मनवाती रही है। कोरोना काल में भी मुंबई पुलिस के जवान ड्यूटी पर ईमानदारी से डटे हुए हैं। इन पुलिस जवानों में से अधिकतर पुलिसवाले ऐसे है, जो नियम के अनुसार 58 वर्ष की आयु पूरी होने पर 31 मई, 2020 को मुंबई पुलिस की सेवा से सेवानिवृत्त हो जाएंगे। कोरोना योद्धाओं की सेवानिवृत्ति की उम्र 58 वर्ष की बजाए बढ़ाकर 60 वर्ष की जाए, ऐसी मांग मंगलवार को ‘न्यूनतम मजदूरी सलाहकार समिति’ के अध्यक्ष डॉक्टर रघुनाथ कुचिक ने महाराष्‍ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर की है। उन्होंने सभी पुलिसकर्मियों की सेवानिवृत्ति की मौजूद आयु 58 से बढ़ाकर 60 करने का अनुरोध किया।
उन्होंने मुंबई पुलिस के जवानों को सच्चे कोरोना योद्धाओं के रूप में वर्णन करते हुए कहा कि जवान कोविड-19 संकट के दौरान चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से उनके प्रस्ताव पर विचार करने की अपील की है क्योंकि कई पुलिसकर्मियों ने ईमानदारी से कर्तव्य निभाते हुए अपनी जान गंवाई है।
राज्यमंत्री के पद पर आसीन डॉक्टर कुचिक ने कहा कि राज्य के गृह विभाग के कई पुलिस अधिकारी और कर्मी 31 मई, 2020 को सेवानिवृत्त हो रहे हैं और मुख्यमंत्री से अनुरोध है कि वे इस मामले को व्यक्तिगत रूप से देखें और वर्तमान सेवानिवृत्ति की आयु 58 वर्ष से बढ़ाकर 60 वर्ष करें। रघुनाथ कुचिक खुद लंबे समय से शिवसेना से जुड़े हुए हैं और विभिन्न कार्यकर्ताओं, संगठनों में विशेष रूप से पुरुषों के बीच एक अच्छे आचरण के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने ये भी मांग की है कि घातक कोरोना वायरस से लड़ते हुए अपनी जान गंवानेवाले पुलिसकर्मियों को ‘शहीदों’ का दर्जा दिया जाना चाहिए ताकि समाज के प्रति उनके योगदान को भुलाया न जा सके।