रमजान में ‘राड़ा बंदी’, चुनाव परिणाम को देखते हुए मुस्लिम इलाकों में कड़ा बंदोबस्त

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के बाद एग्जिट पोल में एनडीए की सरकार दोबारा बनने की बात कही जा रही है। दूसरी ओर विपक्षी पार्टियां इस एग्जिट पोल को नौटंकी करार देने पर तुली हैं। ऐसे में मतगणना के दिन अगर मनचाहा उम्मीदवार नहीं आया तो राड़ा होने का अंदेशा अभी से मुंबई पुलिस व्यक्त कर रही है। पुलिस का राड़ा होने का डर सबसे ज्यादा उन मुस्लिम इलाकों में है, जहां विपक्षी दलों को सबसे ज्यादा वोट मिलने का अंदेशा है। ऐसे में पुलिस मतगणना से २४ घंटे पहले ही वहां कड़ी नजर रख रही है और वहां के दबंगों के कार्यकलापों पर भी पुलिस ने अपनी पैनी नजर गड़ा रखी है। अपनी पुख्ता सुरक्षा इंतजाम के जरिए पुलिस ने रमजान में मुस्लिम इलाकों में ‘राड़ा बंदी’ कर रखी है।
बता दें कि २३ मई को मुंबई की छह लोकसभा सीटों के साथ-साथ पूरे देश की लोकसभा सीटों के नतीजे आने शुरू हो जाएंगे। मुंबई सहित ठाणे, भिवंडी, पालघर आदि लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में एनडीए को कम प्रतिशत में वोट मिले हैं जबकि सबसे ज्यादा वोट इन इलाकों में कांग्रेस व उनके समर्थक दलों के पक्ष में हुए हैं। मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में हुए अधिक मतदान के अनुसार वहां के लोगों और पार्टी समर्थकों का मानना है कि उन्हीं का उम्मीदवार जीतकर आएगा जबकि अन्य इलाकों में एनडीए के पक्ष में भारी मतदान हुआ है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने अपना नाम न छापने की शर्त पर बताया कि अगर चुनावी नतीजों में मुस्लिम बाहुल्य इलाकों के मतदाताओं के इच्छानुसार उम्मीदवार नहीं जीतता है तो यहां राड़ा होने की अधिक संभावना बनी हुई है। पिछले लोकसभा चुनाव के समय भी ठाणे और मुंबई के कुछ इलाकों में चुनावी परिणाम के दिन पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प होने की घटनाएं घट चुकी हैं। इस बार रमजान में मुस्लिम इलाकों में चुनावी राड़ा न हो सके, इसके लिए पुलिस ने अभी से सुरक्षा का इंतजाम करना शुरू कर दिया है। ठाणे के मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में जहां बीएसएफ की परेड की जा रही है, वहीं मीरा रोड के नया नगर में रैपिड एक्शन फोर्स तैनात की गई है। इसी तरह मुंबई के मुस्लिम बाहुल्य इलाकों गोवंडी, भिंडी बाजार, भायखला, मदनपुरा, बांद्रा, माहिम, अंधेरी, जोगेश्वरी आदि जगहों पर स्थानीय पुलिस स्टेशन के जवानों के साथ-साथ एसआरपी, रैपिड एक्शन फोर्स, दंगा विरोधी पथक तैनात किए गए हैं। मुंबई पुलिस के प्रवक्ता पुलिस उपायुक्त मंजुनाथ सिंगे की मानें तो मतगणना शांतिपूर्वक कराने के लिए पुलिस पूरी तरह से सक्षम और किसी भी अप्रिय घटना को टालने के लिए शहर और उपनगर में पुलिस सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।