" /> लॉकडाउन के दौरान अप्रैल महीने में राज्य में हुई 576 दुर्घटनाएं

लॉकडाउन के दौरान अप्रैल महीने में राज्य में हुई 576 दुर्घटनाएं

300 लोगों की मौत 
274 लोग हुए घायल
लॉक डाउन व कर्फ्यू के कारण सड़कें सुनसान दिखाई दे रही हैं, इसके बावजूद सडकों पर दुर्घटनाओं का प्रमाण बड़ी संख्या में दिखाई दे रहा है। पिछले महीने अप्रैल में राज्यभर में 576 दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें 300 से अधिक लोग मारे गए और 274 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। अत्यावश्यक सेवा के लिए यातायात शुरू है। राज्य में सबसे अधिक दुर्घटनाएं मुंबई, ठाणे, नासिक, नगर, जलगांव और धुले शहर में हुई हैं।
तालाबंदी के बावजूद कई लोग अपने प्रांत में पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, कुछ लोग अपने गांव के लिए अपनी गाड़ी से निकल गए हैं तो कुछ
लोग पैदल ही गांव की सड़क पकड़ ली है। यात्रियों द्वारा यातायात नियम का पालन किया जाता है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में भी नागरिकों द्वारा तालाबंदी नियम का पालन नहीं किया जा रहा है और वाहनों को तेज रफ्तार से दौड़ाया जा रहा है। जैसे-जैसे सड़क और राजमार्ग खुले हैं लापरवाह ड्राइविंग, ओवरटेकिंग, ड्राइवर मोबाइल पर बात करते हुए गाड़ी चला रहे हैं और दुर्घटनाओं को आमंत्रित किया जा रहा है। कुछ शहरी इलाकों में सिग्नल प्रणाली भी सड़कों पर वाहनों की कमी के कारण बंद कर दी गई है इससे ड्राइवरों को लापरवाही से गाड़ी चलाने की अधिक स्वतंत्रता मिल गई है। अप्रैल, 2020 में राज्य में 576 दुर्घटनाएं हुईं। इनमें से 280  दुर्घटनाओं में 261 पुरुष और 39 महिलाओं की मौत हो गई। मुंबई में कुल 40 दुर्घटनाएं हुई थीं, जिसमें 11 लोगों की मौत व 35 लोग अप्रैल महीने में घायल हो गए थे। इसी तरह ठाणे शहर में कुल 22 दुर्घटनाओ में 1 की मौत, 21 घायल, ठाणे ग्रामीण में 11 दुर्घटनाओं में 5 की मौत 8 घायल, नई मुंबई में 14 दुर्घटनाओं में 5 लोगों की मौत हुई और 16 लोग घायल हो गए थे। इसी प्रकार पूरे राज्य में अप्रैल महीने में 578 दुर्घटनाओं में 300 लोगों की मौत हो गई।