" /> अस्पतालों की लापरवाही पर शुरू हुई कार्रवाई

अस्पतालों की लापरवाही पर शुरू हुई कार्रवाई

कोरोना संक्रमण का बहाना बनाकर अन्य दूसरी बीमारियों से पीड़ित मरीजों का इलाज न करनेवाले अस्पतालों के विरुद्ध कार्रवाई शुरू हो गई है। इलाज के अभाव में लगातार हो रही मौतों से आहत गृह निर्माण मंत्री एवं स्थानीय विधायक जितेंद्र आव्हाड ने सभी अस्पताल मालिकों से इलाज शुरू करने का बार-बार निवेदन किया था। इसके अलावा कलवा-मुंब्रा राकांपा अध्यक्ष शमीम खान, वरिष्ठ नगरसेवक राजन किने, शानू पठान, अनिता किने, प्रभाग समिति अध्यक्षा अशरीन राउत, जफर नोमानी, फरजाना शाकिर शेख तथा इमरान सुरमे ने मनपा प्रशासन को निवेदन पत्र तथा ज्ञापन देकर अस्पतालों पर कार्रवाई की मांग की थी। मनपा प्रशासन ने सभी अस्पतालों को खोलने तथा मरीजों का इलाज करने का निर्देश दिया था। गृह निर्माण मंत्री आव्हाड के निवेदन पर कई डॉक्टरों ने अपने-अपने अस्पताल शुरू कर दिए परंतु जिन अस्पतालों ने आव्हाड के निवेदन तथा मनपा के निर्देशों का पालन नहीं किया, अतिरिक्त आयुक्त गणेश देशमुख के निर्देश पर उन अस्पतालों के विरुद्ध शुक्रवार से कार्रवाई शुरू कर दी गई है। बंद अस्पतालों के विरुद्ध मुहिम चला रहे शमीम खान तथा शानू पठान का कहना है कि निजी अस्पतालों ने अपना आईसीयू बंद कर रखा है। इलाज के अभाव में मरीज इधर-उधर भटक रहे हैं। सामान्य मरीजों की संख्या को देखते हुए कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित कालसेकर अस्पताल की चौथी मंजिल को सामान्य मरीजों के लिए आरक्षित करने की मांग मनपा आयुक्त विजय सिंघल से की गई है।